उल्टी-दस्त से यात्री की मौत, इलाज के लिए गिड़गिड़ाती रही मां

Aug 02, 2016

उल्टी-दस्त से यात्री की मौत, इलाज के लिए गिड़गिड़ाती रही मां

बिलासपुर। नईदुनिया न्यूज

रेल प्रशासन की ओर से सफर के दौरान ट्रेनों में आपातकालीन चिकित्सा सुविधा के सिर्फ दावे किए जाते हैं लेकिन हकीकत कुछ और रही है। पुरी-हरिद्वार उत्कल एक्सप्रेस में सफर रहे 21 वर्षीय एक युवक की उल्टी-दस्त से मौत हो गई। सफर के दौरान बेटे की तबीयत बिगड़ने मां ने इलाज के लिए टीटीई से गुहार लगाई लेकिन उपचार की व्यवस्था नहीं हो सकी।

जानकारी के मुताबिक ओडिशा राजगंगपुर निवासी मोहम्मद आशिफ पिता शेख खलील (21) अपनी बहन को छोड़ने दिल्ली गया था। उसके साथ मां वहिदा खातुन भी थी। बहन को छोड़कर दोनों लौट रहे थे। उनका रिजर्वेशन उत्कल एक्सप्रेस के कोच एस-12 में था। झांसी पहुंचने के बाद आशिफ को बार- बार उल्टी-दस्त होने लगा। उसकी हालत को देखकर मां ने टीटीई को जानकारी दी। उन्होंने अगले रेलवे स्टेशन में इलाज की सुविधा उपलब्ध होने की बात कही। हालांकि किसी भी स्टेशन में आशिफ का इलाज नहीं हो सका। इधर आशिफ की तबीयत लगातार खराब हो रही थी। पूरी रात उसे इसी स्थिति में यात्रा करनी पड़ी। पेंड्रारोड पहुंचने से पहले टीटीई को मां ने आशिफ की स्थिति से अवगत कराया। टीटीई ने कंट्रोल को इसकी जानकारी दी। लेकिन यहां भी इलाज नहीं हो सका। ऐसी स्थिति में मां ने बिलासपुर में अपने किसी रिश्तेदार को इसकी जानकारी दी। रिश्तेदार बिलासपुर में एंबुलेस लेकर खड़ा था। ट्रेन सुबह 10.50 बजे बिलासपुर पहुंची। इसके बाद उसे सिम्स ले जाया जा रहा था लेकिन रास्ते में ही उसकी मौत हो गई। बाद में पोस्टमार्टम के बाद अंतिम संस्कार के लिए शव परिजनों को सौंप दिया गया।

ये भी पढ़ें :-  मध्य प्रदेश में 500 रुपए की खातिर सेना के जवान की पत्नी को किया अस्पताल से बाहर

फूड पाइजनिंग की आशंका

युवक की मौत के मामले में फूड पाइजनिंग की भी आशंका जाहिर की जा रही है। आमतौर पर उल्टी-दस्त दूषित खाद्य सामग्री के सेवन से होता है। युवक भोजन में कुछ ऐसा खाया होगा जिससे फूड पाइजनिंग हो गई। जहरखुरानी को लेकर भी इनकार नहीं किया जा सकता है। हालांकि जांच के बाद ही इससे पर्दा उठेगा।

2371 किमी का सफर, एक डॉक्टर नहीं

उत्कल एक्सप्रेस को सबसे अधिक दूरी की ट्रेन माना जाता है। यह ट्रेन 75 स्टेशनों से गुजरती है और 2371 किमी का सफर तय करती है। इतनी लंबी दूरी की ट्रेन होने के बाद भी इसमें स्वास्थ्य से जुड़ी किसी तरह की सुविधा नहीं है। एक डॉक्टर तक की ड्यूटी नहीं लगती है।

ये भी पढ़ें :-  भाजपा में उपेक्षित हुए स्वामी प्रसाद मौर्य, कांग्रेस में जाने के जुगाड़ में लगे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected