एसपी की भी नहीं सुनती सिविल लाइन पुलिस

Aug 08, 2016

एसपी की भी नहीं सुनती सिविल लाइन पुलिस

बिलासपुर। नईदुनिया न्यूज

सिविल लाइन पुलिस एसपी की भी नहीं सुनती है। तभी तो एसपी को पत्र लिखने के बाद जब पाइप लाइन तोड़ने को लेकर ठेकेदार कंपनी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने निगम के अधिकारी पहुंचे तो उनसे अर्जी लेकर चलता कर दिया। न तो शिकायत दर्ज की गई और न ही एफआईआर। इससे सिविल लाइन पुलिस की कार्यप्रणाली को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं।

जिले की चौकस पुलिस का हाल यह है कि निजी व्यक्ति तो दूर सरकारी अधिकारियों तक की यहां रिपोर्ट नहीं लिखी जाती है। रिलायंस कंपनी के ठेकेदार ने बगैर अनुमति खुदाई करते हुए पेयजल की मुख्य पाइप लाइन काट दी। इस मामले को लेकर निगम आयुक्त सौमिल रंजन चौबे ने एसपी को पत्र लिखकर रिपोर्ट दर्ज करने का अनुरोध किया था। रिपोर्ट लिखाने की जिम्मेदारी जल शाखा के सहायक अभियंता अजय श्रीवासन को दी गई थी। शनिवार को श्री श्रीवासन जरूरी कागजात के साथ रिपोर्ट लिखाने सिविल लाइन थाने पहुंचे तो उन्हें केवल आवेदन लेकर चलता कर दिया गया। पुलिस ने न रिपोर्ट लिखी और न ही इस मामले में उनसे कोई जानकारी ही ली। इससे पुलिस के मैदानी अमले की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े हो गए हैं। केवल आवेदन लेकर ही पूरे मामले को रफा-दफा करने की तैयारी शुरू हो गई है। सरकारी कामकाज में भी पुलिस के इस रवैए को देखते हुए दोषी ठेकेदार पर अब कार्रवाई नहीं के बराबर जताई जा रही है।

मौत के मामले को भी दबाया गया

महाराणा प्रताप चौक में अल्ट्राट्रैक सीमेंट का अवैध होर्डिंस गिरने से एक व्यक्ति की मौत हो गई। निगम आयुक्त ने इस मामले में भी एसपी को पत्र लिखते हुए उपायुक्त मिथिलेश अवस्थी को सीमेंट कंपनी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने सिविल लाइन थाने भेजा था। पुलिस ने निगम को पक्षकार बनाने से इनकार करते हुए खुद ही आरोपी कंपनी के खिलाफ प्रार्थी बनने की बात कही थी। इसके बाद भी अब तक न तो सीमेंट कंपनी के खिलाफ एफआईआर हुई न ही पुलिस प्रार्थी बनी। रिपोर्ट लिखाने आए उपायुक्त को पुलिस पहले ही भगा चुकी है। इस मामले में भी पुलिस की भूमिका संदिग्ध हो गई है।

शनिवार को एफआईआर कराने के लिए सिविल लाइन थाने पहुंचा था। एक एसआई ने आवेदन ले लिया है। एफआईआर फिलहाल दर्ज नहीं हुई है।

अजय श्रीवासन

जल शाखा प्रभारी, नगर निगम

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

Jan 19, 2018

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>