चीतल की मौतः हटाए गए डिप्टी रेंजर व बीट गार्ड

Jun 28, 2016

चीतल की मौतः हटाए गए डिप्टी रेंजर व बीट गार्ड

बिलासपुर। नईदुनिया न्यूज

कारीछापर में चीतल की मौत के मामले में डिप्टी रेंजर व बीट गार्ड को हटाकर बिलासपुर नारंगी इकाई में पदस्थ कर दिया गया है। साथ ही दो इंक्रीमेंट रोकने की कार्रवाई की जा रही है। इससे पहले दोनों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। यह कार्रवाई डीएफओ अमिताभ वाजपेयी ने की है।

बिलासपुर वन परिक्षेत्र के सीपत सर्किल अंतर्गत कारीछापर बीट में सप्ताहभर पहले एक चीतल की संदिग्ध मौत हो गई थी। घटना के बाद बीट गार्ड संजय रार्पितवार ने डिप्टी रेंजर संजय वर्मा के निर्देश पर रात में ही बिना पंचनामा व पोस्टमार्टम के शव को जला दिया। इसकी जानकारी किसी भी वन अफसर को नहीं दी गई। उनके इस गैरजिम्मेदराना कार्य से अफसर भी बेहद नाराज हुए। दूसरे दिन एसडीओ एचबी खान के निर्देश पर वन परिक्षेत्र अधिकारी सुनील कुमार बच्चन ने मौके पर पहुंचकर जांच की। ग्रामीण व वनकर्मियों का बयान भी लिया। हालांकि इस औपचारिकता के बाद मामले की कार्रवाई ठंडे बस्ते में चली गई थी। वनमंडल से इस घटना की जानकारी रायपुर वन मुख्यालय तक को नहीं दी गई थी। बाद में जानकारी मिलने के बाद एडिशनल पीसीसीएफ वाइल्ड लाइफ एसके सिंह ने कड़ी नाराजगी जताई। उन्होंने इस मामले में सीधे डीएफओ अमिताभ वाजपेयी से चर्चा की। श्री वाजपेयी विभागीय ट्रेनिंग में हैदराबाद गए हुए थे। इसलिए कार्रवाई अटक गई थी। सोमवार को श्री वाजपेयी ट्रेनिंग से लौटे। कार्यालय पहुंचने के बाद सबसे पहले उन्होंने चीतल की मौत के मामले की फाइल मंगाई। प्रकरण को खंगालने के बाद उन्हें डिप्टी रेंजर व बीट की लापरवाही मिली। उन्होंने इसे लापरवाही मानते हुए उन्होंने दो आदेश जारी किए। पहले आदेश में उन्होंने तत्काल दोनों को हटाते हुए बिलासपुर नारंगी इकाई में पदस्थ कर दिया है। वहीं दूसरे आदेश में दो इंक्रीमेंट रोकने की कार्रवाई करने के लिए कारण बताओ नोटिस जारी किया है।

डिप्टी रेंजर व बीट कार्ड को हटा दिया गया है। दोनों को बिलासपुर नारंगी इकाई में पदस्थ करने का आदेश जारी किया गया है। साथ ही दो इंक्रीमेंट रोकने के लिए कारण बताओ नोटिस जारी किया है।

अमिताभ वाजपेयी

डीएफओ, बिलासपुर वनमंडल

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>