दलित परिवार को गांव से निकाला, कलेक्टर और एसपी को नोटिस

Jul 13, 2016

दलित परिवार को गांव से निकाला, कलेक्टर और एसपी को नोटिस

बिलासपुर। नईदुनिया न्यूज

धार्मिक आयोजन के दौरान चप्पल पहनकर गांव में घुमने और चमड़े का काम बंद नहीं करने पर दलित परिवार का सामाजिक बहिष्कार करने को हाईकोर्ट ने गंभीरता से लिया है। मामले में कोर्ट ने रायगढ़ कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक रायगढ़ और सरिया टीआई को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है।

रायगढ़ जिले के ग्राम बरमकेला ब्लॉक के ग्राम अमुर्रा में दिसंबर 2015 में धार्मिक कार्यक्रम रखा गया। इस दौरान ग्रामीणों के चप्पल पहनने और मास-मदिरा की बिक्री को प्रतिबंधित किया गया था। गांव में रहने वाले दलित परिवार गंगाधर और गजाधर को परंपरागत चमड़े का कार्य नहीं करने के लिए कहा गया। परिवार के लोग ने चप्पल पहनना और चमड़े का काम बंद नहीं किया। इस पर ग्राम सभा बुलाकर दलित परिवार का बहिष्कार का फरमान जारी किया गया। इसके साथ ही इन्हें गांव से निकाल कर मकान तोड़ दिया गया। पीड़ितों ने सरिया थाने में शिकायत की। पुलिस ने भी उनकी कोई सहायता नहीं की। ऐसे में दलित परिवार ने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल कर न्याय की गुहार लगाई है। हाईकोर्ट ने सुनवाई के बाद कलेक्टर रायगढ़, पुलिस अधीक्षक रायगढ़ व सरिया टीआई को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>