झीरम कांडः पूर्व कलेक्टर मेनन को गवाही के लिए बुलाने की मांग

Jul 31, 2016

झीरम कांडः पूर्व कलेक्टर मेनन को गवाही के लिए बुलाने की मांग

बिलासपुर। नईदुनिया न्यूज

झीराम घाटी हमला मामले में कांग्रेस की ओर से सुकमा के पूर्व कलेक्टर एलेक्स पॉल मेनन को गवाही के लिए बुलाने आवेदन दिया था। आयोग ने नोटिस जारी कर शासन से जवाब मांगा है। 12 अगस्त को मामले में सुनवाई होगी।

25 जून 2013 को झीरम घाटी नक्सली हमले में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नंदकुमार पटेल समेत दिग्गज कांग्रेसियों की मौत हो गई थी। इस मामले में विशेष न्यायिक जांच आयोग के अध्यक्ष प्रशांत कुमार मिश्रा के कोर्ट में शनिवार को कांग्रेस की ओर से प्रस्तुत आवेदन पर सुनवाई हुई। कांग्रेस के प्रदेश सचिव विवेक बाजपेयी ने स्व. पटेल के साथ यात्रा में गरियाबंद, भैरमगढ़ की यात्रा ली थी। इन जगहों में पर्याप्त सुरक्षा बल लगाए जाने की फोटो हैं। वहीं सुकमा की रैली में सुरक्षा बल नहीं लगाए जाने का साक्ष्य दिया गया है। इस पर शासन की ओर से जवाब में कहा गया कि सुकमा में भी पर्याप्त सुरक्षा बल लगाया गया था, जिस ओर बल था वहां की फोटो नहीं ली गई है। इस पर श्री बाजपेयी ने यह आवेदन दिया है कि 25 मई 2013 को पुलिस घटनास्थल में करीब 7 बजे पहुंचने की बात कही किन्तु उनके कॉल डिटेल में 8.40 बजे मोबाइल नेटवर्क के रेंज में आने का रिकार्ड है। इसके अलावा उनकी ओर 17 जून 2016 को घटनास्थल झीरम में शाम 5.30 से 7.30 बजे तक सूर्य की रोशनी की स्थिति की फोटो प्रस्तुत पेश की गई है। इसमें कहा गया कि यहां 7.30 बजे तक पर्याप्त रोशनी रहती है किन्तु सुरक्षा बल ने मौके पर 7 बजे पहुंचने व अंधेरा होने की बात कही है। कांग्रेस के इस सवाल पर शासन ने अपने जवाब में कहा है कि सभी समय में परिस्थिति एक समान नहीं होती है। इसके अलावा कांग्रेस ने सुकमा के पूर्व कलेक्टर एलेक्स पाल मेनन के अपहरण के बाद उन्हें रिहा करने क्या वार्तालाप हुआ इस मामले में कलेक्टर श्री मेमन को गवाही के लिए बुलाने की मांग की गई है। झीरम कांड के बाद गिरफ्तार व सरेंडर करने वाले नक्सली के पूछताछ में इस वारदात में शामिल होने की बात कही है। इस संबंध में दस्तावेज दिए जाने की मांग की। आयोग ने कांग्रेस के सभी आवेदन पर शासन को जवाब प्रस्तुत करने तथा इस पर 12 अगस्त को सुनवाई के लिए रखने का आदेश दिया है। 12 अगस्त को ही सुकमा के पूर्व कलेक्टर को गवाही के लिए बुलाए जाने के संबंध में निर्णय होने की संभावना है।

सरकार ने गुप्त सूचना छिपाई

कांग्रेस की ओर से श्री बाजपेयी ने आवेदन देकर कहा है कि सरकार ने रैली के दौरान नक्सलियों के संबंध में मिली गुप्त सूचनाओं को छिपाई है। आवेदन में कहा गया है कि पीसीसी के कबर्ड में गुप्त सूचना से संबंधित दस्तावेज मिले हैं। इसमें 24 गुप्त सूचनाओं के दस्तावेज हैं। वहीं सरकार ने आयोग को सिर्फ 19 गुप्त सूचनाओं की जानकारी दी है। एक न्यूज चैनल में दिखाए गए पहले फुटेज जिसमें श्री शुक्ला समेत अन्य लोग दिखाई दे रहे हैं उसके फुटेज प्रस्तुत करने की मांग की गई है।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>