भ्रष्टाचार के आरोपी आनंद का स्थगन निरस्त कराने शासन का पहुंचा लेटर

Jun 07, 2016

भ्रष्टाचार के आरोपी आनंद का स्थगन निरस्त कराने शासन का पहुंचा लेटर

बिलासपुर(निप्र)। आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने के मामले में एसीबी के चंगुल में फंसे जिला पंचायत के परियोजना अर्थशास्त्री आनंद पांडेय के स्थगन आदेश को निरस्त कराने शासन ने जिला पंचायत को पत्र लिखा है। दरअसल शासन ने पांच साल पहले उन्हें मूल विभाग शिक्षा विभाग के लिए रिलीव कर दिया था। इसके खिलाफ उन्होंने हाईकोर्ट में स्थगन ले लिया है।

जिला पंचायत में पदस्थ पांडेय का मूल विभाग शिक्षा विभाग है। वे मूल रूप से व्याख्याता हैं। पिछले कुछ सालों से वे सर्व शिक्षा अभियान में सहायक परियोजना अधिकारी (वित्त) के पद पर पदस्थ थे। 29 जुलाई 2011 को जिला पंचायत ने आदेश जारी कर मूल विभाग (शिक्षा विभाग) के लिए रिलीव कर दिया था। हालांकि इस आदेश के विरोध में श्री पांडेय ने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल कर दी, जहां उन्हें स्टे मिल गया। यह स्टे अभी भी चल रहा है। वर्तमान में पांडेय जिला पंचायत में परियोजना अर्थशास्त्री के पद पर पदस्थ हैं। शासन ने 15 जनवरी 2016 को फिर पत्र लिखकर उनकी प्रतिनियुक्ति समाप्त करने का आदेश जारी किया था। लेकिन उन्होंने कोर्ट के स्टे का हवाला देते हुए रिलीव नहीं हुए। अब एक बार फिर से शासन की ओर से जिला पंचायत को आदेश जारी किया गया है। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग की ओर से 30 मई को जारी पत्र में कहा गया है कि आनंद पांडेय के खिलाफ एंटी करप्शन ब्यूरो में आय से अधिक संपत्ति के मामले में अपराध दर्ज है। लिहाजा स्थगन आदेश निरस्त कराने के संबंध में कार्रवाई कर शासन को अवगत कराने कहा गया है।

4 करोड़ की मिली थी संपत्ति

एंटी करप्शन ब्यूरो ने बीते 23 अप्रैल को प्रदेशभर के 13 अधिकारियों के यहां छापा मारा था। इसमें जिला पंचायत में पदस्थ परियोजना अर्थशास्त्री आनंद पांडेय भी शामिल थे। एसीबी ने उनके और उनके रिश्तेदारों के यहां से आय से अधिक करीब 4 करोड़ रुपए की संपत्ति का खुलासा किया था। इस मामले में एसीबी ने अपराध क्रमांक 34/2016 धारा 13 पीसी एक्ट 1988 का अपराध पंजीबद्ध किया गया है।

आनंद पांडेय के मामले को लेकर शासन से रिमाइंडर लेटर आया है। विभाग की ओर से हाईकोर्ट में सुनवाई के लिए अर्जी दी गई है। कोर्ट के आदेश पर ही उनकी प्रतिनियुक्ति समाप्त की जाएगी।

जेपी मौर्य

सीईओ जिला पंचायत

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>