बिहार, शहाबुद्दीन की जमानत के बाद राजनीति गर्म, भड़की भाजपा

Sep 11, 2016
बिहार, शहाबुद्दीन की जमानत के बाद राजनीति गर्म, भड़की भाजपा

बिहार में खूखार घटनाओं को अंजाम देने वाला सीवान का बाहुबली मोहम्मद शहाबुद्दीन शनिवार (10 सितंबर) को जेल से बाहर आ गया। शहाबुद्दीन पर अवैध हथियार रखने, जेल में अवैध रूप से मोबाइल का उपयोग करने, मर्डर, किडनैपिंग और पुलिस के साथ गोलीबारी करने जैसे आरोप हैं। शहाबुद्दीन को पटना हाईकोर्ट के आदेश के बाद जमानत मिल गई है। खबरों के मुताबिक शाहबुद्दीन के काफिले के लिए करीब 1300 गाड़ियों के साथ अपने गढ़ सीवान जाएगा। जेडीयू और आरजेडी के कई लोग उसे लेने के लिए पहुंचे थे। मीडियाकर्मियों से बातचीत करते हुए शहाबुद्दीन ने कहा कि उसे फंसाया गया था।

शहाबुद्दीन के क्राइम की कहानी 15 मार्च 2001 को लालू की पार्टी के एक नेता को गिरफ्तार करने आए पुलिस ऑफिसर संजीव कुमार को थप्पड़ मारने से शुरू हुई थी। इसके घटना के बाद शहाबुद्दीन के समर्थकों और पुलिस के बीच काफी लंबी झड़प हुई। थप्पड़ मारने वाले शहाबुद्दीन पर पुलिस ने छापेमारी की। इस दौरान शहाबुद्दीन समर्थकों और पुलिस के बीच गई घंटों तक गोलीबारी हुई। इस घटना में 10 लोग मारे गए और पुलिस को खाली हाथ लौटना पड़ा। तभी से शहाबुद्दीन एक बाहुबली के रूप में पहचाना जाने लगा।

गौरतलब है कि दो भाइयों की तेजाब से नहलाकर हत्या करने और बाद में हत्याकांड के इकलौते गवाह उनके तीसरे भाई की हत्या के मामले में शहाबुद्दीन भागलपुर जेल में बंद था। दोहरे हत्याकांड में लिप्त आरोपी हाईकोर्ट से फरवरी में ही जमानत पा चुका था और अब गवाह की हत्या के मामले में भी बुधवार को शीर्ष अदालत ने उसकी जमानत मंजूर कर ली। ऐसे में शहाबुद्दीन की जमानत के बाद बिहार की राजनीति गर्म हो गई है, नीतीश की सत्तारूढ़ पार्टी फिलहाल इस मामले पर कुछ भी कहने से बच रही है। विपक्षी भाजपा ने आरोप लगाया है कि लालू यादव से नजदीकी के चलते सरकार ने उसका केस कमजोर कर दिया, जिसके चलते ऐसे गुंडे को जमानत मिल गई।

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>