यशोधरा बोलीं- मेरी फाइल दस महीने में लौटी, जिम्‍मेदारी तय हो

Jul 06, 2016

यशोधरा बोलीं- मेरी फाइल दस महीने में लौटी, जिम्‍मेदारी तय हो

भोपाल। कैबिनेट बैठक के दौरान पूरे समय शांत रहीं खेल एवं युवक कल्याण मंत्री यशोधराराजे सिंधिया ने मुख्यमंत्री की समीक्षा बैठक में प्रशासनिक व्यवस्था पर सवाल उठा दिए। हुआ यूं कि मुख्यमंत्री ने सभी मंत्री और अधिकारियों को फाइल प्रोटोकॉल सिस्टम अपनाने के लिए कहा, ताकि कोई भी फाइल किसी भी स्तर पर ज्यादा दिन न रूके। इसी बात को लेकर सिंधिया ने सवाल उठाया कि मेरी फाइल दस माह बाद एक जुलाई को लौटी। इसका उत्तरदायित्व तय होना चाहिए।

इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि इसलिए ही तो ये व्यवस्था बना रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री ने काम की गति बढ़ाने के मकसद से फाइल प्रोटोकॉल का मसला उठाया था। वे पहले भी ये बात कह चुके हैं कि फाइलें अटकनी नहीं चाहिए। नियम भी यही है कि किसी भी स्तर पर 8 दिन से अधिक फाइल नहीं रूकनी चाहिए, पर इसका पालन न तो मंत्री के स्तर पर होता और न ही अफसरों के।

उन्होंने जैसे ही बैठक में ये बात उठाई मंत्री सिंधिया बोलीं कि मैंने पिछले साल अगस्त में एक फाइल बढ़ाई थी। ये छह करोड़ रुपए की वसूली से संबंधित थी, लेकिन ये मूवमेंट में नहीं रही। मुख्य सचिव के यहां से एक जुलाई को आई। दस माह का विलंब हुआ। कोई निर्णय भी नहीं हुआ। इसके लिए उत्तरदायित्व तय होना चाहिए।

जीएडी सक्रिय

सामान्य प्रशासन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि फाइल प्रोटोकॉल सिस्टम को प्रभावी बनाने के लिए कम्प्यूटरीकृत व्यवस्था जल्द लागू होगा। इसके लिए दो-तीन दौर की बैठक भी हो चुकी है। ये व्यवस्था लागू होने के बाद हर स्तर पर फाइल कम्प्यूटर में दर्ज होगी और आगे बढ़ेगी। इसे कोई भी देख सकेगा कि कौन-सी फाइल कहां रूकी हुई है। सिंधिया के उठाए मुद्दे को लेकर उद्योग विभाग के अधिकारियों ने जानकारी होने से अनभिज्ञता जाहिर की।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>