कॉल पर नहीं पहुंची थी एंबुलेंस, सड़क पर प्रसव, स्वास्थ्य विभाग के अफसरों से जवाब-तलब

Aug 14, 2016

कॉल पर नहीं पहुंची थी एंबुलेंस, सड़क पर प्रसव, स्वास्थ्य विभाग के अफसरों से जवाब-तलब

-राज्य मानव अधिकार आयोग ने लिया संज्ञान

-प्रसूता को घर से अस्पताल नहीं पहुंचाना लापरवाही

———-

भोपाल। नवदुनिया न्यूज

समय पर एम्बुलेंस नहीं मिलने के कारण राजधानी के चौकसे नगर में एक महिला का सड़क पर प्रसव होने के मामले को मानव अधिकार आयोग ने गंभीरता से लिया है। इसे लापरवाही मानकर लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के प्रमुख सचिव, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के संचालक, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी भोपाल से एक हफ्ते में जवाब मांगा है।

12 बार लगाया था फोन

आयोग के प्रवक्ता ने बताया कि बैरसिया रोड स्थित न्यू चौकसे नगर की महिला लक्ष्मी को समय पर एम्बुलेंस न मिलने से उसका प्रसव सड़क पर ही हो गया। उसके पति धर्मेन्द्र लोधी ने करीब 12 बार एम्बुलेंस को फोन किया। हर बार उसे बताया गया कि एम्बुलेंस पहुंच रही है। इस परिवार के पास स्वयं का कोई वाहन भी नहीं था।

नहीं मिली मदद

प्रसव वेदना के बावजूद भी उसका पति उसे घर से सड़क तक पैदल लगभग डेढ़ किमी. तक लाया। इसके बाद महिला की हिम्मत जवाब दे गई। वह सड़क किनारे ही लेट गई। दर्द से तड़पने के बाद भी उसे मदद नहीं मिली। अंततः वहां से गुजर रही उसके पड़ोस की महिला ने उसका सड़क पर ही प्रसव कराया।

लापरवाही हुई

आयोग का कहना है कि 108 एम्बुलेंस का रिस्पांस टाइम अधिकतम 20 मिनट का होता है। जननी एक्सप्रेस का काम भी 108 एम्बुलेंस ही करती है। ऐसी स्थिति में प्रसूता को घर से अस्पताल नहीं पहुंचाया गया। यह चिंता के साथ ही घोर लापरवाही का विषय भी है।

——-

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

Jan 19, 2018

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>