आईआईटी, आईआईएम में पढ़ाई का खर्च उठाएगी सरकार

Aug 03, 2016

आईआईटी, आईआईएम में पढ़ाई का खर्च उठाएगी सरकार

भोपाल। प्रदेश के गरीब और होनहार बच्चों को देश के चुनिंदा कॉलेज में एडमिशन मिलने पर पढ़ाई का खर्चा मप्र सरकार उठाएगी। इनमें सभी आईआईटी, आईआईएम सहित कुछ प्राइवेट कॉलेज भी होंगे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नवदुनिया से कहा कि आईआईटी, आईआईएम और कुछ ऐसे कॉलेज जिन्हें सरकार तय करेगी, उनमें प्रवेश लेने पर गरीब बच्चों की पढ़ाई का खर्चा सरकार उठाएगी। इसमें कुछ प्राइवेट कॉलेज भी होंगे। लाड़ली लक्ष्मी योजना के तहत मंगलवार को पहली बार छठवीं में आई लाड़लियों को 2 हजार स्र्पए की स्कॉलरशिप देने के बाद मुख्यमंत्री ने विशेष चर्चा में कहा कि सरकार सभी वर्गों के लिए यह योजना लागू करेगी। सरकार उन छात्र-छात्राओं की पढ़ाई का खर्चा उठाएगी, जिनके माता-पिता इनकम टैक्स जमा नहीं करते हैं।

23 लाख लाडलियों के नाम 6 हजार 900 करोड़ जमा

मुख्यमंत्री ने कहा कि 2007 से अब तक लाड़ली लक्ष्मी योजना के तहत 23 लाख बेटियों के नाम 6 हजार 900 करोड़ स्र्पए सरकार जमा कर चुकी है। जब ये बेटियां 21 साल की होंगी तो उन्हें 27 हजार 140 करोड़ स्र्पए की राशि मिलेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि अगले 10 से 15 साल में सरकार 1 लाख करोड़ स्र्पए बेटियों के खाते में जमा करवाएगी। उन्होंने कहा कि सरकारी नौकरियों में महिलाओं को शिक्षकों के लिए 50 प्रतिशत और पुलिस में 33 प्रतिशत आरक्षण दिया जा रहा है।

आनंद विभाग का बीज लाड़ली लक्ष्मी योजना से

सीएम हाउस में आयोजित कार्यक्रम में महिला एवं बाल विकास मंत्री अर्चना चिटनीस ने कहा कि मुख्यमंत्री ने हाल ही में आनंद विभाग का गठन किया है, लेकिन इसका बीज 2007 में शुरू हुई लाड़ली लक्ष्मी योजना है। उन्होंने बताया कि प्रदेश की 17 हजार बेटियों को छठवीं में आने पर इस साल 2 हजार स्र्पए की स्कॉलरशिप दी जा रही है। मंत्री चिटनीस ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ की बात कह रहे हैं, हमारे मुख्यमंत्री ने 10 साल पहले इस दिशा में कदम बढ़ा दिए थे।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

Jan 19, 2018

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>