डेढ़ माह में 11 बार चला अभियान, सिर्फ दो बसों पर लगा जुर्माना

Aug 15, 2016

डेढ़ माह में 11 बार चला अभियान, सिर्फ दो बसों पर लगा जुर्माना

भोपाल। नवदुनिया न्यूज

क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय (आरटीओ) का उड़नदस्ता जांच अभियान के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति कर रहा है। यही वजह है कि बीते डेढ़ महीने में शहर के अलग-अलग इलाकों में चले अभियान में अमला मात्र दो बसों पर ही कार्रवाई कर सका। अब स्थिति यह है कि आरटीओ ने सभी बसों व वेन को फिट मानकर अभियान बंद कर दिया।

गत जुलाई और अगस्त में अब तक आरटीओ के उड़नदस्ते ने 11 बार जांच अभियान चलाया। इस दौरान स्कूल बसों व वेन और ट्रैफिक पुलिस के साथ हेलमेट, पीयूसी की चैकिंग की गई। जुलाई नौ बार में भेल, होशंगाबाद रोड, कोलार में चले अभियान में 50 से 60 बसों की जांच की गई। इसमें सिर्फ 2 बसों में फिटनेस सर्टिफिकेट, परमिट, बीमा समेत अन्य गड़बड़ियां मिलीं। इन पर भी मामूली जुर्माना लगाया गया। वहीं अगस्त में अभी तक दो बार अभियान चला, इसमें 34 बसों के साथ आठ वेन की जांच हुई। उधर, आरटीओ अधिकारी अमला कम होने का हवाला दे रहे हैं। उनका कहना है कि कम स्टाफ होने के कारण लगातार चैकिंग नहीं कर पाते।

ये हैं बसों व वेन के हालात

शहर में करीब 300 अनफिट स्कूल बसें दौड़ रही हैं। इनमें 15 साल से ज्यादा पुरानी बसों का संचालन भी हो रहा है। जबकि वेन में क्षमता से ज्यादा बच्चे बिठाए जा रहे हैं। यह सब आरटीओ के उड़नदस्ते को दिखाई नहीं देता। इसी तरह कई ऐसी मिनी बसें हैं जो खस्ताहाल में सड़कों पर चल रही हैं। इनकी तो अभी जांच भी शुरू नहीं की गई। पुराने वाहनों की पीयूसी भी नहीं हुई है। इनके संचालन से शहर में प्रदूषण फैल रहा है।

ऐसे करते हैं खानापूर्ति

आरटीओ के उड़नदस्ते में सिर्फ तीन का स्टाफ है। चैकिंग में सिर्फ दो जवान ही बसों को रोकने के लिए खड़े होते हैं। हालांकि आरटीओ का उड़नदस्ता ट्रैफिक पुलिस की मदद लेता है। इसके बाद भी जल्दबाजी में चैकिंग कर खानापूर्ति कर दी जाती है।

ऑटो की नहीं की जा रही जांच

शहर में सात हजार के करीब ऑटो चल रहे हैं। इनमें कई ऑटो पुराने हो चुके हैं, लेकिन आरटीओ के उड़नदस्ता इनकी जांच ही नहीं करता। जबकि कई बार ऑटो चालक नियमों का उल्लघंन करते साफतौर पर देखे जा सकते हैं। मीटर बंद होने से यात्रियों से मनमाना किराया वसूला जा रहा है। शिकायत के बाद भी आरटीओ ने चैकिंग अभियान नहीं चलाया है।

स्टाफ बढ़ाने का प्रस्ताव दिया

आरटीओ के उड़नदस्ते में तीन से चार का स्टाफ है। ऐसे में स्कूल बसों व अन्य वाहनों के चैकिंग अभियान लगातार नहीं चल पाते। स्टाफ बढ़ाने का प्रस्ताव भेजा है। विभाग की स्वीकृति मिलने के बाद उड़नदस्ता और बेहतर तरीके से चैकिंग अभियान चला सकेगा।

– संजय तिवारी, प्रभारी आरटीओ

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

Jan 19, 2018

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>