मध्यप्रदेश में पुलिस से प्रताड़ित लोगों की लड़ाई लड़ेंगी रिनी

Jun 10, 2016

मध्यप्रदेश में पुलिस से प्रताड़ित लोगों की लड़ाई लड़ेंगी रिनी

अमित देशमुख, भोपाल। पुलिस की अमानवीय हरकतें झेलने के बाद अब रिनी जौहर उन लोगों की मदद करने अमेरिका से भारत लौटेंगी, जो मध्यप्रदेश में पुलिस से सताए हुए हैं। अभी प्राइवेट जॉब कर रहीं रिनी यहां आकर वकालत करेंगी। उन्हें और उनकी मां को झूठे केस में फंसाकर गलत तरीके से गिरफ्तारी के मामले में पिछले दिनों सुप्रीम कोर्ट ने मप्र शासन पर दस लाख का जुर्माना लगाया था, साथ ही मप्र पुलिस को कड़ी फटकार लगाते हुए दोषी अधिकारियों पर तीन महीने में कार्रवाई के निर्देश दिए थे।

रिनी कहती हैं कि उनके खिलाफ झूठी शिकायत करने वाले जबलपुर के वकील को भी जेल भिजवाकर रहेंगी। उन्होंने आरोप लगाए कि मप्र पुलिस ने उनकी बुर्जुग मां को डराकर ना सिर्फ पैसा लिया, बल्कि हक की बात रखने पर उनसे 50-50 बार रसीद की कॉपी लिखवाई गई। नवदुनिया ने अमेरिका में रह रहीं रिनी से बातचीत की, जिसमें उन्होंने न्याय की लड़ाई लड़ने के इरादे का खुलासा किया।

मानवाधिकार आयोग के पूर्व कार्यवाहक अध्यक्ष भी घेरे में

रिनी ने आरोप लगाया कि पूरे मामले में मध्यप्रदेश मानवाधिकार आयोग के तत्कालीन कार्यवाहक अध्यक्ष रहे एके सक्सेना के खिलाफ भी कोर्ट और महाराष्ट्र मानवाधिकार आयोग में शिकायत दर्ज कराएंगी। उन्होंने आरोप लगाए कि सक्सेना जबलपुर के वकील विक्रम राजपूत और उनके पिता को पहले से जानते थे और उन्हीं के कहने पर विक्रम के एक आवेदन पर आईजी अनिल गुप्ता और एएसपी दीपक ठाकुर पर दबाव बनाकर कार्रवाई के लिए कई बार पत्र लिखे, लेकिन मामले में हमसे कभी सच जानने की कोशिश नहीं की। जमानत के बाद जब हम उनसे मिलने गए तो उन्होंने मिलने से भी इंकार किया, वहीं जब हमने विक्रम का शिकायती पत्र मांगा तो वे हमें नहीं दिया गया। उन्होंने मानवाधिकार आयोग के पूर्व अध्यक्ष के खिलाफ मप्र के राज्यपाल, मुख्यमंत्री और गृहमंत्री शिकायत की थी, पर कोई कार्रवाई नहीं हुई।

पूरे घटनाक्रम पर लिखेंगी किताब

रिनी कहती हैं कि इस पूरे प्रकरण को लेकर वो किताब भी लिखने वाली हैं। उनके अनुसार जब उन्हें व उनकी मां को जेल भेजा गया तो वहां मौजूद पुलिसकर्मी सौरभ भट्ट ने धमकाया कि अब दोनों की पिटाई होने वाली है और यदि उन्हें इससे बचना है तो उसे दस हजार रुपए देने होंगे। रिनी के अनुसार उन्होंने यह पैसे सौरभ को दिए भी। वे कहती हंै कि जेल में महिला वॉर्डन महिला कैदियों से मालिश कराती थी। जेल में हमारे साथ संगीन अपराधियों जैसा व्यवहार किया गया।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>