पीएम की आपदा नीति पर तेजी से काम करने वाले राज्यों में मध्यप्रदेश

Jun 10, 2016

पीएम की आपदा नीति पर तेजी से काम करने वाले राज्यों में मध्यप्रदेश

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन योजना को लेकर जो राष्ट्रीय नीति तैयार की गई है, उस पर तेजी से क्रियान्वयन करने वालों में राज्यों में मध्यप्रदेश का नाम भी शुमार हो गया है। मालूम हो कि एक जून को केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने जिन बिंदुओं को इस योजना में शामिल किया है, उनमें से कई प्रमुख चीजों पर मध्यप्रदेश ने काम लगभग काम कर लिया है।

मध्यप्रदेश होमगार्ड व आपदा प्रबंधन ने प्रदेश में एक लाख से ज्यादा वॉलेंटियर तैयार कर लिए हैं, जो एक मैसेज मिलते ही बचाव व राहत कार्य के लिए तैयार रहेंगे। केंद्र की ओर से जारी निर्देश के अनुसार आपदा प्रबंधन की नीति का पूरा फोकस भारत को आपदा मुक्त बनाना है साथ ही आपदा जोखिमों में पर्याप्त रूप से कमी लाना है।

प्रशासन के सभी स्तरों और साथ ही समुदायों की आपदाओं से निपटने की क्षमता को बढ़ाया जाएगा। इसे लेकर भी प्रदेश भर में संरपंचों को जोड़ने का काम भी तेजी से चल रहा है। इधर वह सॉफ्टवेयर भी तैयार कर लिया गया है जिससे किसी भी आपदा आशंकित क्षेत्र का पूरा नक्शा जिसमें आसपास के इलाकों के आबादी, वहां मौजूद वॉलेटिंयर और राहत और बचाव के लिए काम करने वाली एजेंसियों का डाटा एकत्र कर लिया गया है।

यह खास हैं नई नीति में

– एनडीएमपी आपदा जोखिम घटाने के लिए सेंडैई फ्रेमवर्क में तय किए गए लक्ष्यों और प्राथमिकताओं के साथ तालमेल करेगा।

– प्रत्येक खतरे के लिए, सेंडैई फ्रेमवर्क में घोषित चार प्राथमिकताओं को आपदा जोखिम में कमी करने के फ्रेमवर्क में शामिल किया गया है। इसमें जोखिम को समझना, एजेंसियों के बीच सहयोग, डीआरआर में सहयोग संरचनात्मक उपाय, डीआरआर में सहयोग गैर-संरचनात्मक उपाय, क्षमता विकास शामिल है। पूर्व चेतावनी, मानचित्र, उपग्रह इनपुट, सूचना प्रसार को मुख्य तौर पर रखा गया है।

– आम लोगों के साथ पशुओं को बचाना, पेयजल/निर्जलीकरण पंप/स्वच्छता सुविधाएं/सार्वजनिक स्वास्थ्य पर खास ध्यान देना आदि शामिल है।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>