आयरन-स्टील कारोबारियों से मिले 5 करोड़ की एक्साइज ड्यूटी चोरी के साक्ष्य

Jun 02, 2016

आयरन-स्टील कारोबारियों से मिले 5 करोड़ की एक्साइज ड्यूटी चोरी के साक्ष्य

भोपाल। कस्टम-सेंट्रल एक्साइज विभाग की खुफिया विंग ने आयरन-स्टील के चारों कारोबारियों के पास से पांच करोड़ रुपए से अधिक की एक्साइज ड्यूटी चोरी के साक्ष्य बरामद किए हैं। इसके अलावा करीब तीन करोड़ रुपए का अतिरिक्त स्टॉक भी उनके यहां मिला है। यह टैक्स चोरी फर्जी रसीदों के जरिए चल रही थी। चारों कारोबारियों के सभी 20 ठिकानों पर छानबीन पूरी हो गई, लेकिन कुछ ठिकानों पर गुरुवार की सुबह चार बजे तक छानबीन चलती रही।

डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ सेंट्रल एक्साइज इंटेलीजेंस (डीजीसीईआई) की इस कार्रवाई में भोपाल, इंदौर एवं अन्य शहरों के अफसरों को लगाया गया था। मंडीदीप स्थित केजी आयरन-स्टील, सरन इस्पात इंडस्ट्रीज ,जा-वी इस्पात एवं शेपर्स आयरन इंडस्ट्रीज के सभी ठिकानों से बड़ी संख्या में दस्तावेज, डुप्लीकेट रसीद एवं हिसाब-किताब में गड़बड़ी के साक्ष्य मिले हैं।

ये भी पढ़ें :-  108 समाजवादी एम्बुलेंस सेवा घोटाले में अखिलेश सरकार से जवाब तलब

चारों कंपनियों के बही-खाते, कम्प्यूटर डाटा एवं स्टॉक रजिस्टर आदि बरामद कर लिए हंै। विभागीय सूत्रों का कहना है कि छापे में बरामद दस्तावेजों की स्क्रूटनी के बाद ड्यूटी चोरी की सही स्थिति सामने आएगी। डीजीसीईआई के एडीजी नवनीत गोयल ने डिप्टी डायरेक्टर सालिक परवेज, इंटेलीजेंस अफसर शरद त्रिपाठी और विनीत कुमार सहित अन्य अफसरों की टीम को इस मुहिम में लगाया था।

आज से होगी संचालकों से पूछताछ

इन सभी की फेक्टरियों में छानबीन के दौरान तीन करोड़ रुपए से अधिक कीमत के सरिया का ऐसा स्टॉक भी मिला है जिसका दस्तावेजों में जिक्र नहीं था। इसकी जब्ती भी बनाई गई है। शुक्रवार से इन प्रतिष्ठानों के संचालकों प्रमोद गुप्ता, कमलेश गुप्ता एवं भरत शुक्ला से पूछताछ का सिलसिला शुरू होगा। उनके बयान भी दर्ज कराए जाएंगे। इन प्रतिष्ठानों के जिन डीलर्स पर छापा मारा गया, उनसे भी पूछताछ की जाएगी।

ये भी पढ़ें :-  PM मोदी को गोद लेने का ऐलान करने वाले BJP नेता योगी पर उनकी ही बेटी ने लगाए गंभीर आरोप

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected