गौर अड़े तो सोलंकी ने मनाया, अमित शाह से कराई बात, तब दिया इस्तीफा

Jul 01, 2016

गौर अड़े तो सोलंकी ने मनाया, अमित शाह से कराई बात, तब दिया इस्तीफा

भोपाल। ब्यूरो। भाजपा के महासचिव विनय सहस्रबुद्धे और प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान ने जब गृह मंत्री बाबूलाल गौर के घर पहुंचकर इस्तीफा देने के लिए कहा तो गौर ने साफ इंकार कर दिया। अब तक सर्वाधिक बार विधानसभा चुनाव जीतने का रिकॉर्ड बनाने वाले गौर ने दोनों नेताओं से कहा कि वे उन्हें पद छोड़ने की वजह बता दें, तभी इस्तीफा देंगे, वरना नहीं। गौर के अड़ने के बाद भाजपा के तमाम बड़े नेताओं ने उन्हें समझाया, लेकिन वे नहीं माने।

अंतत: प्रदेश भाजपा के पूर्र्व संगठन महामंत्री और अब हरियाणा के राज्यपाल कप्तान सिंह सोलंकी ने मध्यस्थता की। सोलंकी ने कई बार गौर से बातचीत की। इस दौरान सोलंकी, गौर से बातचीत का सारा ब्यौरा पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को भी दे रहे थे।

मौजूदा सूत्रों ने बताया कि जब गौर ने साफ कह दिया कि पहले उन्हें कसूर बताया जाए। साथ में उन्होंने यह चेतावनी भी दे दी कि चाहे तो वे बर्खास्त कर दें, लेकिन बिना कसूर जाने पद नहीं छोड़ेंगे। गौर की चेतावनी के बाद शाम 4 बजे के लगभग सोलंकी ने फिर फोन किया और कॉन्फ्रेंस के जरिए पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को भी लाइन पर लिया।

शाह ने गौर से बातचीत की और इस्तीफा देने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि पार्टी आपको हटा नहीं रही है। आपकी सेवाएं अन्य जगह ली जाएंगी। काफी जद्दोजहद और मान-मनौव्वल के बाद गौर इस्तीफा देने के लिए तैयार हुए। तब जाकर उन्होंने फैक्स के जरिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को अपना इस्तीफा भेजा।

आगे-आगे देखिए होता है क्या..! – बाबूलाल गौर, पूर्व गृहमंत्री

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>