Bedroom में रखें ध्यान, इस तरह सोने से होती हैं बीमारियां

Aug 03, 2016

शयन कक्ष ऐसा स्थान होता है जहां दिन भर की भागदौड़ के बाद स्त्री हो या पुरुष आराम का अनुभव करते हैं। वास्तुशास्त्र के अनुसार बेड पर सोते समय कुछ नियमों का पालन करना जरूरी होता है। सोने का तरीका भी अच्छी और बुरी बातों का कारण बन सकता है। शयन कक्ष में कुछ बातों का ध्यान रखने से परेशानियां और बीमारियां कोसों दूर रहती हैं।
बेडरूम के इस कोने में सोने से स्त्री हो या पुरूष पंहुच जाते हैं यम के द्वार
वास्तु फेंगशुई टिप्स: प्यार और समृद्धि बढ़ाने के लिए बेडरूम को दें ऐसा रूप

बेड के बीच में बिजली से चलने वाला कोई भी उपकरण नहीं होना चाहिए। ऐसा बेड जो लोग इस्तेमाल करते हैं उन्हें हाजमे से संबंधित समस्या रहती है।

सिंपल और सोबर डिजाइन वाली बैडशीट तन-मन को सुकून देती है। भारी-भरकम और भारी डिजाइन वाला बिस्तर अशांति पैदा करता है।

शयन कक्ष के दरवाजे के सामने पैर करके सोना अशुभ होता है। महालक्ष्मी घर से नाराज होकर चली जाती हैं।

शयन कक्ष में पूजा घर और पूर्वजों के चित्र लगाना अपशगुन होता है।

गहरी नींद का आनंद लेने और लंबी उम्र का सुख भोगने के लिए सोते समय सिर दक्षिण दिशा में और पैर पश्चिम दिशा में होने चाहिए।

अनचाही परेशानियों से बचने के लिए ताजमहल, फव्वारे, जंगली जानवर, कंटिले पौधे, डूबती हुई नाव और जहाज के चित्र शयन कक्ष में न लगाएं।

जो लोग सोते समय अपने आस-पास घड़ी रखकर सोते हैं वह हमेशा परेशानी और घबराहट का अनुभव करते रहते हैं।

शयन कक्ष में हल्की गुलाबी रोशनी करके रखने से दांपत्य जीवन में प्रेम और रोमांस में कभी कमी नहीं आती।

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>