‘बटला एनकाउंटर’ CM होते हुये जो जरूरी था मैंने किया, आजमगढ़ में उलेमा कौंसिल ने किया शीला दीक्षित का विरोध

Sep 05, 2016
‘बटला एनकाउंटर’ CM होते हुये जो जरूरी था मैंने किया, आजमगढ़ में उलेमा कौंसिल ने किया शीला दीक्षित का विरोध

सपा सुप्रिमों मुलायम सिंह यादव के संसदीय क्षेत्र आजमगढ़ पहुंचीं शीला दीक्षित ने कहा कि बटला एनकाउंटर पर एक सीएम होने के नाते जो जरूरी कदम होने चाहिए वह उठाए थे. उन्होंने कहा कि एनकाउंटर कहीं भी हों परिजनों को दुख तो होगा ही. शीला दीक्षित का ये बयान राष्टीय उलेमा कौंसिल के विरोध के बाद आया हैं.

शनिवार को आयोजित पद यात्रा रैली से पहले राष्टीय उलेमा कौंसिल ने नगर के रैदोपुर स्थित गांधी प्रतिमा के सामने कांग्रेस पार्टी की सीएम पद की उम्मीदवार शीला दीक्षित का पुतला फूंक कर विरोध प्रदर्शन किया था.

राष्टीय उलेमा कौंसिल के कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया था कि 19 सितम्बर 2008 में हुए फर्जी बाटला हाउस इंकाउन्टर में जिले के दो नौजवानो मारे गये थे. उस समय शीला दीक्षित दिल्ली की मुख्यमंत्री थी.

ये भी पढ़ें :-  शर्मनाक- पति को खुश न कर पाने की पत्नी को मिली ऐसी सज़ा, नहीं बच पाई पत्नी कि..

आरोप में आगे कहा गया था कि शीला ने अल्लामा शिब्ली नोमानी, राहुल सांस्कृत्यायन, कैफी आजमी, पंडित हरिऔध सिंह उपाध्याय की पाक सरजमी आजमगंढ को आतंकवाद की नर्सरी तक कह डाला और इंनकाउन्टर की एक जांच तक नही करायी.

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected