‘बैंकों को शीर्ष 50 कर्जदारों को 2.4 लाख करोड़ की छूट देने की जरूरत’

Jul 19, 2017
‘बैंकों को शीर्ष 50 कर्जदारों को 2.4 लाख करोड़ की छूट देने की जरूरत’

बैंकों को फंसे हुए कर्ज में से 60 फीसदी की छूट देनी होगी और यह रकम करीब 2.4 लाख करोड़ रुपये की होगी, ताकि लंबे समय से फंसे पड़े 50 शीर्ष कर्जदारों के साथ मामले का निपटारा कर सके, जिन पर कुल 4 लाख करोड़ रुपये का कर्ज बकाया है। एक रिपोर्ट में बुधवार को यह सलाह दी गई।

रेटिंग एजेंसी क्रिसिल ने यहां अपनी रिपोर्ट में कहा, “इन 50 कंपनियों में धातु कंपनियों में 30 फीसदी, विनिर्माण कंपनियों में 25 फीसदी और बिजली कंपनियों में 15 फीसदी कर्ज फंसा है। इसका नतीजा है कि बैंकिंग प्रणाली का साल 2017 के 31 मार्च तक कुल 8 लाख करोड़ रुपया कर्ज के रूप में फंसा है, जिसे गैर निष्पादित परिसंपत्तियां (एनपीए) घोषित कर दिया गया है।”

क्रिसिल ने कहा, “अर्थव्यवस्था की बेहतरी के लिए बैंकों को कर्ज में छूट देनी चाहिए और यह कड़वी दवा खानी चाहिए। अनुमान है कि बैंक कुल फंसे कर्जो में 40 फीसदी की छूट देंगे।”

क्रिसिल रेटिंग के मुख्य विश्लेषण अधिकारी पवन अग्रवाल ने कहा, “हमने कर्ज में छूट देने के आकलन के लिए आर्थिक मूल्य दृष्टिकोण का इस्तेमाल किया। यह बाजार मूल्य के गुणकों और नकदी प्रवाह अनुमानों का एक संयोजन है। हालांकि छूट की रकम अंतिम रूप से कर्जदारों की उम्मीद और सहायक कंपनियों के मूल्यांकन से प्रभावित होगा।”

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>