बैंक यूनियन की मांग, RBI गवर्नर दे इस्तीफा, मौतों के लिए जिम्मेदार उर्जित पटेल

Nov 22, 2016
बैंक यूनियन की मांग, RBI गवर्नर दे इस्तीफा, मौतों के लिए जिम्मेदार उर्जित पटेल

अखिल भारतीय बैंक अधिकारी संघ के वरिष्ठ उपाध्यक्ष डी. थाॅमस फ्रेंको ने देश के मौजूदा संकट और मौतों के लिए नैतिक रूप से उर्जित पटेल को जिम्मेदार माना है। उन्होेंने कहा कि इसके लिए उन्हेें नैतिक जिम्मेदारी लेनी होगी, और इस पद को त्याग देना होगा। डी. थाॅमस फ्रेंको अखिल भारतीय बैंक अधिकारी संघ के वरिष्ठ उपाध्यक्ष है जो 2.5 लाख बैंक अधिकारियों का प्रतिनिधित्व करता है, जिसमें सभी राष्ट्रीय बैंक सहित निजि, सहकारी व ग्रामीण बैंक शामिल हैं।

इंडियन एक्सप्रेस से बात चीत के दौरान, फ्रेंको ने कहा 11 बैंक अधिकारियों समेत तमाम लोगों की हुई मौतों की नैतिक जिम्मेदारी आरबीआई गवर्नर को लेनी चाहिए और उन्हें पद से इस्तीफा दे देना चाहिए। वर्तमान आरबीआई गवर्नर सही फैसले लेने में असमर्थ रहे हैं। जिसका खामियाजा आम जनता को भुगतना पड़ा है। उन्होंने 500 रुपये की जगह 2000 रुपये का नोट पहले उतारने पर भी सवाल खड़ा किया। जब आरबीआई गवर्नर ने 2000 के नोट पर साइन किए। तब उनकी टीम को इस बात का अहसास क्यों नहीं हुआ कि 2000 रुपये के नोट का साइज 1000 रुपये के नोट से छोटा है। इससे दो लाख बैंक एटीएम मशीनों को एक साथ कैसे बदला जा सकेगा। फ्रैंको ने आरबीआई को कोसते हुए कहा कि नोटबंदी के मामले में यह पूरी तरह विफल रहा है और सरकार को सही ढंग से सलाह भी नहीं दे पाया।

फ्रेंको ने कहा सरकार ने भी अन्य देशों से कोई सबक नहीं लिया। पहले भी 1978 में जब सरकार नोटबंदी का फैसला लेकर आई थी तब उस समय के रिजर्व बैंक के गर्वनर आई जी पटेल ने सलाह दी थी कि ये कदम सरकार के खिलाफ होगा। कहा कि हम सभी जानते है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और वित्त मंत्री अरूण जेटली कोई अर्थशास्त्री नहीं है। फिर भी भारतीय रिजर्व बैंक के अर्थशास्त्रियों को इससे संबंधित मामलों पर निर्णय को लेने की जरूरत होती है जो लोगों के जीवन और अर्थव्यवस्था से जुड़ा होता है।

फ्रेंको ने कहा, वर्तमान गर्वनर पूरी तरह से नाकाम हो गए है जिसकी वजह से अर्थव्यवस्था इतने बुरे दौर में पहुंच गई। इसके पीछे बिना किसी महत्पूर्ण योजना के लिया गया फैसला था। जो देश को इतने बुरे दौर में ले आया है।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>