बांग्लादेश: अपराध को लेकर एक को मौत की सजा और दो को जेल

Jun 02, 2016

बांग्लादेश के एक विशेष न्यायाधिकरण ने 1971 के मुक्ति संग्राम में पाकिस्तानी सैनिकों का साथ देकर युद्ध अपराध करने के जुर्म में एक व्यक्ति को मौत की सजा और उसके दो भाइयों को उम्रकैद की सजा सुनायी है.

बांग्लादेश के इंटरनेशनल क्राइम्स ट्रिब्यूनल (आईसीटी-बीडी) ने मुजरिमों के लिए फैसले की घोषणा की. इन तीनों की उम्र 60 साल के आसपास है और उन्हें इस साल के प्रारंभ में गिरफ्तार किया गया था.
न्यायाधीशों के तीन सदस्यीय आईसीटी बीडी पैनल के अध्यक्ष न्यायमूर्ति अनवारूल हक ने घोषणा की, ‘‘उसे (मुहिबुर रहमान बोरो मियां को) उसकी मौत होने तक फांसी पर लटका कर रखा जाए.’’
इस फैसले में मुहिबुर के छोटे भाई मुजीबुर रहमान अंगूर मिया और रिश्तेदार अब्दुर रजाक को पाकिस्तानी सैनिकों के साथ मिलकर पूर्वोत्तर हबीबगंज में ‘रजाकार फोर्स’ गठित करने और लोगों पर कहर ढाने के जुर्म में उम्रकैद की सजा सुनायी गयी.
यह फैसला न्यायाधिकरण द्वारा इस मामले की सुनवाई पूरी करने के 21 दिन बाद आया है. इसे सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी जा सकती है.
दस मई को बांग्लादेश की सबसे बड़ी इस्लामवादी पार्टी जमात ए इस्लामी के प्रमुख मोतिउर रहमान निजामी को 1971 के मुक्ति संग्राम में मानवता के खिलाफ अपराध के अंतिम शेष शीर्ष अपराधी के रूप में फांसी पर चढ़ाया गया था
अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

 

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>