आजम खां ने सेना पर की अभद्र टिप्पणी कहा, भारतीय सेना के प्राइवेट पार्ट्स काटकर..

Jun 29, 2017
आजम खां ने सेना पर की अभद्र टिप्पणी कहा, भारतीय सेना के प्राइवेट पार्ट्स काटकर..

उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री और समाजवादी पार्टी (सपा) के कद्दावर नेता आजम खां ने बुधवार को सेना पर विवादित बयान दिया, जिसके बाद सोशल मीडिया पर उनकी आलोचना हो रही है। रामपुर जिले में हुए एक कार्यक्रम के दौरान का एक वीडियो वायरल हुआ है, जिसमें सपा नेता आजम खां भारतीय सेना पर अभद्र टिप्पणी करते नजर आए हैं। आजम वीडियो में कह रहे हैं, “दहशतगर्द फौज के प्राइवेट पार्ट्स काटकर साथ ले गए। उन्हें हाथ से शिकायत नहीं थी। सिर से नहीं थी। पैर से नहीं थी। जिस्म के जिस हिस्से से उन्हें शिकायत थी, वे उसे काटकर ले गए। यह इतना बड़ा संदेश है, जिस पर पूरे हिंदुस्तान को शर्मिदा होना चाहिए और सोचना चाहिए कि हम दुनिया को क्या मुंह दिखाएंगे?”

ये भी पढ़ें :-  आधार नहीं होने पर राशन से इनकार, भात-भात कहते हुए 11 साल की बच्ची ने तोड़ा दम

आजम ने वीडियो में कहा, “फौज के साथ जो हो रहा है, वो हिंदुस्तान की असल जिंदगी का पर्दा उठाती है। कहीं लोग फौज या बेगुनाहों का सिर उतारते हैं, कहीं कोई किसी का हाथ काटकर ले जाता है। लेकिन इस मौके पर दहशतगर्द फौज के प्राइवेट पार्ट्स को काटकर साथ ले गए।”

गौरतलब है कि हाल ही में छत्तीसगढ़ के सुकमा में हुए नक्सली हमलों में शहीद सुरक्षाकर्मियों के प्राइवेट पार्ट्स काटे जाने की खबरें सामने आई थीं।

उधर, आजम खां के बयान की चारों ओर निंदा की जा रही है। सपा से निष्कासित पूर्व प्रवक्ता दीपक मिश्र ने कहा कि आजम को ऐसा नहीं कहना चाहिए। इस तरह के बयान देने से सेना का विश्वास कमजोर होने लगता है। उन्हें इस तरह का विवादित बयान नहीं देना चाहिए।

ये भी पढ़ें :-  PM मोदी ने बॉर्डर पर जवानों के साथ मनाई दिवाली, मिठाई खिलाकर बोले- आप ही मेरा परिवार हो

वहीं भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने आजम खां के बयान पर कहा कि वह देश बांटने की साजिश बार-बार कर रहे हैं। उन्होंने भारतीय सेना को कभी अपना नहीं माना।

वहीं भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी ने कहा कि आजम पहले भी कारगिल शहीदों में मजहब तलाशकर सेना पर घटिया बयानबाजी कर चुके हैं। आजम को अपने मानसिक दिवालियापन का इलाज कराना चाहिए।

लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>