धमाकों में आरोपी के रूप में पिछले आठ साल से जेल में बंद साध्वी प्रज्ञा जेल से हो सकती हैं रिहा

May 13, 2016

मालेगांव में 2008 में हुए धमाकों में आरोपी के रूप में पिछले आठ साल से जेल में बंद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर जेल से रिहा हो सकती हैं.

2008 मालेगांव धमाकों के मामले में नेशनल इंवेस्‍टीगेशन एजेंसी(एनआईए) ने चार्जशीट में साध्‍वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर का नाम आरोपियों में शामिल नहीं करने का फैसला किया है.

बताया जा रहा है कि साध्वी के खिलाफ पेश किये गये अब तक के सारे सबूत बेहद कमजोर हैं. उनके आधार पर यह कतई नहीं कहा जा सकता है कि साध्वी का मालेगांव धमाकों में हाथ था.

अंग्रेजी अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक फाइल की जाने वाली चार्जशीट में इस बात का उल्लेख किए जाने की संभावना है कि पूर्व महाराष्ट्र एटीएस प्रमुख हेमंत करकरे (26/11 के आतंकी हमले में शहीद) द्वारा इस मामले की गई जांच त्रुटिपूर्ण थी.

 

चार्जशीट में यह बात भी कहे जाने की संभावना है कि कर्नल प्रसाद पुरोहित और एक अन्य अभियुक्त के खिलाफ दिए गए सबूत मनगढ़ंत थे और गवाहों के बयान बलप्रयोग कर के लिए गए हैं. अंग्रेजी अखबार के मुताबिक एनआईए अधिकारी  ने कहा है कि हमें इस बात के सबूत मिले हैं कि कर्नल पुरोहित के क्वार्टर पर एटीएस द्वारा ही आरडीएक्स रखवाए गए थे.

जांच एजेंसी ने इस बात का निर्णय भी लिया है कि कर्नल पुरोहित समेत सभी आरोपियों के खिलाफ मकोका हटा दिया जाएगा. अब उन पर गैर कानूनी गतिविधि (रोकथाम) (UAPA)अधिनियम के प्रावधानों के चार्ज लगाए जाएंगे जिसकी चार्जशीट यूएपीए कोर्ट, मुंबई में दाखिल की जाएगी.

इन सबके बीच आज सुनवाई के दौरान एनआईए यह बातें कोर्ट में रख सकती है. हालांकि फैसला कोर्ट के हाथों में है, लेकिन एक बात तय है कि बहुत जल्द साध्वी जेल से बाहर आ जायेगी.

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>