महिलाओं की तस्करी के मुद्दे पर लोकसभा में उठी जांच की मांग

Aug 02, 2016

लोकसभा में मंगलवार को असम से 31 आदिवासी लड़कियों को कथित रूप से तस्करी के जरिए गुजरात ले जाए जाने का मुद्दा उठाया

महिलाओं और बच्चों की सुरक्षा की हालत पर चिंता जाहिर करते हुए एक कांग्रेस सदस्य ने लोकसभा में मंगलवार असम से 31 आदिवासी लड़कियों को कथित रूप से तस्करी के जरिए गुजरात ले जाए जाने का मुद्दा उठाया और इस मामले में तीन संगठनों की संदिग्ध संलिप्तता की जांच कराने की मांग की.

कांग्रेस की सुष्मिता देव ने शून्यकाल में यह मामला उठाते हुए कहा कि इस पवित्र सदन ने महिलाओं की सुरक्षा को लेकर समय समय पर कई कानून बनाए हैं और पिछले दिनों बाल श्रम संबंधी एक महत्वपूर्ण विधेयक पारित किया गया.

उन्होंने कहा कि इसके बावजूद देश में आए दिन बुलंदशहर बलात्कार कांड जैसी घटनाएं हो रही हैं. उन्होंने कहा कि इस मामले में पीड़ित महिला के परिजन प्रदर्शन कर रहे हैं और दोषियों को तुरंत गिरफ्तार नही किए जाने पर उन्होंने आत्महत्या की धमकी दी है.

सुष्मिता ने कहा कि इसी कड़ी में पिछले दिनों असम से 31 लड़कियों को तस्करी कर गुजरात ले जाया गया जो संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार संरक्षण कानून के भी खिलाफ है.

उन्होंने कहा कि यह सदन कानून पारित कर सकता है लेकिन कानून के रखवाले बार बार कानून को लागू करवाने में विफल साबित हो रहे हैं. चाहे उत्तर प्रदेश का मामला हो या चाहे असम का.

उन्होंने 31 युवतियों की तस्करी में सत्तारूढ़ भाजपा से जुड़े एक संगठन का नाम लिया जिसका संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने पुरजोर विरोध किया और संगठन के नाम को कार्यवाही से हटाने की मांग की.

इस पर अध्यक्ष ने कहा कि किसी संगठन का नाम कार्यवाही में नहीं जाएगा.

सुष्मिता ने कहा कि इस संगठन से जुड़े तीन समूह सेवा के नाम पर बालकों की तस्करी में शामिल हैं और केंद्र सरकार को इनकी जांच करानी चाहिए.
 अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>