पशुपालन मंत्री का बयान, विदेशी साँड़ करते हैं स्वदेशी भैंसों का शोषण

Aug 31, 2016
पशुपालन मंत्री का बयान, विदेशी साँड़ करते हैं स्वदेशी भैंसों का शोषण

चंडीगढ़: हरियाणा के पशुपालन और डेयरी मंत्री ओम प्रकाश धनखड़ ने अजीबो गरीब बयान देते हुए राज्य में आवारा पशुओं के कारण हो रही परेशानी के लिए विदेशी सांडों को जिम्मेदार बताया है। उन्होंने कहा कि विदेशी सांड, प्रजनन चक्र का भी खयाल न रखते हुए भैंसों का शोषण करते हैं। राज्य विधानसभा में मंगलवार को बहस के दौरान ओपी धनखड़ ने कहा कि विदेशी नस्ल वाले सांडों का चरित्र बिल्कुल अपने देशों के सांडों की तरह होता है।

मालूम हो, हरियाणा में 3 लाख सांड हैं, जिनमें से 1.59 लाख मिश्रित नस्ल के हैं। इनकी संख्या पर नियंत्रण के लिए 22000 सांडों को बधिया करा दिया गया है। धनखड़ का कहना है कि बधिया कराने के अभियान में और तेजी लानी होगी। उन्होंने कहा, ‘हम इन सांडों को बधिया कराते हैं वरना इसके बिना तो इन्हें गोशाला संस्थान वाले भी जगह नहीं देते हैं।’

उन्होंने बताया कि सरकार ने इन मिश्रित नस्ल सांडों की संख्या में कमी करने के लिए यूएस में अधिकारियों से भी बात की है। स्थानीय नस्ल को प्रोत्साहित करने के लिए सरकार ने पहले ही 4 दशकों से चले आ रहे क्रॉस ब्रीडिंग प्रोग्राम के तहत कराए जाने वाले प्रजनन पर रोक लगा दी है। कांग्रेस विधायक किरण चौधरी ने भी सदन में इस समस्या के बारे में कहा कि हरियाणा से भिवानी तक जाने में इन पशुओं के कारण 90 अतिरिक्त मिनट लगते हैं। हरियाणा में कुल 425 गोशाला हैं, जिनमें 3.25 लाख गाय और सांड राज्य की 425 में रहते हैं। इसके बावजूद 1.17 लाख आवारा पशु अभी भी सड़कों पर घूमते हैं।

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>