अमेरिका को नीति का पालन करने के वादे को निभाना चाहिए: चीन

Jun 15, 2016

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की दलाई लामा से प्रस्तावित मुलाकात और ताईवान की नयी राष्ट्रपति ताई इंग वेन की होने वाली प्रथम यात्रा पर सख्त ऐतराज जताया.

चीन ने कहा कि अमेरिका को ‘एक चीन’ की नीति का पालन करने के अपने वादे को निभाना चाहिए.

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लु कांग ने ओबामा से संभावित मुलाकात के बारे में तिब्बती आध्यात्मिक नेता की टिप्पणी पर जवाब देते हुए संवाददाताओं से कहा कि 14वें दलाई लामा चीन को तोड़ने के अपने राजनीतिक रूख को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भुनाने के लिए अक्सर धर्म का सहारा लेते हैं.

उन्होंने कहा, ‘‘हम इस बात की मांग करते हैं कोई देश या सरकार उन्हें ऐसी गतिविधियों के लिए जगह नहीं दे और कुछ ऐसा नहीं करे कि चीन के 1.3 अरब लोग उसका दृढ़ता से विरोध करे.’’  चीन के विरोध के बावजूद ओबामा ने अतीत में दलाई लामा से मुलाकात की है.

ये भी पढ़ें :-  अपनी अंतिम प्रेस कांफ्रेंस में ओबामा ने कहा- भविष्य में कोई हिंदू भी हो सकता है अमेरिका का राष्ट्रपति

बीजिंग 80 वर्षीय तिब्बती बौद्ध भिक्षु को एक अलगाववादी मानता है जो चीन से तिब्बत को अलग करने की कोशिश कर रहे हैं.

ताई की अमेरिका की ट्रांजिट यात्रा पर लु ने कहा कि अमेरिकी सरकार ने एक चीन नीति के प्रति और ताईवाइन की स्वतंत्रता के खिलाफ गंभीर प्रतिबद्धता जताई है. आशा है कि अमेरिका अपने वादे को पूरा करेगा और कोई गलत संदेश नहीं देगा.

गौरतलब है कि ताई ताईवान का चीन के साथ एकीकरण किए जाने के खिलाफ हैं. वहीं, चीन ताईवान को एक विद्रोही प्रांत मानता है और उसके मुख्य भूमि का हिस्सा होने का दावा करता है.

ये भी पढ़ें :-  जिस शख्स में काबिलियत होती है, वह अपनी नस्ल और विश्वास को पीछे छोड़कर आगे बढ़ जाता है-ओबामा

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected