प्रशासन हमें उनको पीटने की इजाजत दे जिन्होंने हमें पीटा था, इसके बदले हम 1 लाख रुपये देने को तैयार

Jul 21, 2016

गुजरात के ऊना में गोरक्षा के नाम पर हुई पिटाई को दलित युवक भुला नहीं पा रहें हैं. वारदात को 8 दिन बीत चुके हैं लेकिन उनके लिए इस हादसे को भूल पाना नामुमकिन हो चूका हैं.

रमेश सर्वैया, बाबू हीरा, अशोक बिजल और बेचर उगाभाई को मरे हुए जानवरों की चमड़ी उतारने का अपना पुश्तैनी काम करने पर गोरक्षा दल ने पीटा था. उस घटना को याद करते हुए रमेश बताते हैं, ‘वे एक घंटे तक हमें लोहे की पाइप और डंडों से पीटते रहे. हमने जैसे उस वक्त अपनी मौत को ही देख लिया था। हम पूरी जिंदगी में फिर कभी यह काम नहीं करेंगे.

रमेश ने आगे कहा, ‘सरकार हमें मुआवजा देने का प्रस्ताव दे रही है, लेकिन अगर प्रशासन हमें उन सबको पीटने की इजाजत दे जिन्होंने हमें पीटा था, तो हम इसके बदले 1 लाख रुपये देने को तैयार हैं.

उन्होंने घटना को याद करते हुए बताया कि हम मरे हुए जानवरों की चमड़ी लेकर जा रहे थे कि तभी 2 कारें हमारी ओर आईं. फिर एकाएक वहां 5-7 कारें और आ गईं. उनमें करीब 40 लोग थे। उन्होंने हमें रोका और बेदर्दी से हमें पीटने लगे. हमने उनसे कहा कि हमने गायों को नहीं मारा है, लेकिन वे हमारी बात सुनने को तैयार ही नहीं थे. जब मेरे पिता हमें बचाने आगे आए, तो उन लोगों ने उनको भी मारा.

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

Jan 19, 2018

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>