ALERT: मोटापे और डिप्रेशन से बढ़ता है डायबिटीज का खतरा

Apr 18, 2016

अगर आप मोटापे से ग्रस्त हैं और अधिक डिप्रेशन में हैं तो संभल जाइए। क्योंकि यह रोग आपको कई रोगों का शिकार बना सकता है। एक हालिया अध्ययन में पता चला है कि डिप्रेशन, मोटापा, उच्च रक्तचाप और अस्वस्थ कोलेस्ट्रॉल के स्तर एक साथ मिलकर टाइप 2 डायबिटीज के जोखिम बढ़ा सकते हैं।

निष्कर्ष बताते हैं कि जो लोग डिप्रेशन और चयापचय जोखिम कारकों जैसे मोटापा, उच्च रक्तचाप और अस्वस्थ कोलेस्ट्रॉल के स्तर से ग्रसित होते हैं, ऐसे लोगों को टाइप 2 डायबिटीज होने का खतरा छह गुना अधिक होता है।

केवल अवसाद की अवस्था टाइप 2 डायबिटीज का महत्वपूर्ण जोखिम कारक नहीं है। लेकिन अवसाद रहित मोटापे, उच्च रक्तचाप और अस्वस्थ कोलेस्ट्रॉल के स्तर से ग्रसित लोगों में मधुमेह होने की चार गुना अधिक संभावना होती है।

कनाडा की मैकगिल युनिवर्सिटी से इस अध्ययन के मुख्य लेखक नोबर्ट स्किमिट्ज ने बताया, ‘ये निष्कर्ष बताते हैं कि केवल डिप्रेशन तो नहीं, लेकिन डिप्रेशन के साथ जुड़े हुए अन्य चयापचय विकार टाइप 2 मधुमेह और हृदय रोग के जोखिमों को बढ़ाने में जिम्मेदार हो सकते हैं।”

इस शोध के लिए 40 से 69 साल के 2,525 प्रतिभागियों पर अध्ययन किया गया था। यह शोध ‘जर्नल मॉलीकुलर साइकियाट्री’ पत्रिका में प्रकाशित हुआ है।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>