आबकारी नियमों को ताक में रख चल रही शराब की दुकाने

May 16, 2016

जयपुर ग्रामीण/ सरकारी शराब की दुकानों पर आबकारी नियमों को ताक में रख अवैध रूप से वसूली, रात में गुपचुप में शराब की बिक्री, राजमार्गो पर ही दुकाने खोलना आदि का खेल धड़ल्ले से चल रहा है। शराब की कीमत ठेकेदारों ने अपनी मर्जी से ही तय कर रखी है। खासकर ग्रामीण क्षेत्रों पर तो राजमार्गो पर ही शराब की दुकाने खोल रखी है जिसमे बोराज, हिरनोदा, काचरोदा, फुलेरा आदि क्षेत्र हे। तय राशि से अधिक किमत ग्राहकों से वसूली की जा रही है। आबकारी अधिनियम और नियम के तहत प्रत्येक शराब की दुकान के बाहर उस दुकान में कौनसा ब्रांड है ओर उसकी कीमत को दर्शाने वाली सूची मोटे अक्षरों में लगाना जरूरी है उसकी जानकारी के लिए दुकान के बाहर लिस्ट चस्पा करनी जरूरी होती है, लेकिन जिले के ग्रामीण क्षेत्र में संचालित होने वाली अंग्रेजी और देशी शराब की दुकानों पर इस तरह के किसी भी नियम की पालना नहीं हो रही है। शराब दुकानों पर निर्धारित कीमत से अधिक राशि वसूलने के बारे में जानकारी आबकारी विभाग के सभी अधिकारियों को होने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। यहा आबकारी अधिकारियों की मिली भगत साफ नजर आती है। वहीं इन दुकानों पर आने वाले ग्राहकों से भी मनमर्जी से दाम वसूल कर अवैध मुनाफा कमाया जा रहा है। ओर अवैध और मनमर्जी की दाम की वसूली का काम खुलेआम और धड़ल्ले से चल रहा है। कई शराब की दुकानो के अन्दर शराबियों को बैठाकर शराब भी परोसी जा रही है।
आबकारी नियमों के अनुसार जहां शराब का ठेका सवेरे 10 बजे खुलना सायं 8 बजे बंद करने के नियम है, लेकिन क्षेत्र की सभी दुकानो पर रात में गुपचुप में शराब की बिक्री की जा रही है। कहने को दुकानों पर शटर भी डले होते हैं, पर अंदर बैठे व्यक्ति बिना किसी डर के रात भर शराब बेचते रहते हैं। इसके लिए बाकायदा शराब के इन दुकानदारों ने ऐसी व्यवस्था कर रखी है जिससे किसी को पता भी न चले और इनका काम भी चलता रहे।
आबकारी अधिकारियों के अनुसार अधिक रुपए वसूलने की शिकायत अधिकांश ग्रामीण क्षेत्रों में आती है। खासकर बांदरसिंदरी, पाटन, सांभर लेक, अजमेर-जयपुर हाइवे आदि शराब की दुकानों पर हर बार शिकायतें आती रहती है। ऐसे ग्रामीण क्षेत्रों और हाइवे पर स्थित शराब की दुकानों पर विशेष निगरानी रहेगी।

इसके साथ ही उन्हें भी दुकानों के बाहर रेट लिस्ट पर लगाने के लिए पाबंद किया है। वहीं रात आठ बजे बाद भी विशेष निगरानी के लिए विभागीय अधिकारी गश्त पर रहेंगे। यदि आठ बजे बाद भी शराब बिक्री की शिकायत मिलती है तो सख्त कार्रवाई की जाएगी। (सुनिल कुमावत)

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

Jan 19, 2018

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>