सरकार के आदेश के बाद, कलेक्टर साहब बेच रहे प्याज, बोल रहे ले लो – 50 रुपए किलो

Aug 05, 2016

भोपाल। सरकार के आदेश के बाद गोदामों में सड़ रही प्याज को अब कलेक्टर बेच रहे हैं। प्याज खराब होने से बचाने के लिए मध्य प्रदेश में खरगोन के कलेक्टर अशोक कुमार वर्मा ने एक अजीब फरमान जारी किया है। कलेक्टर ने जिले के अफसरों और कर्मचारियों से कहा है कि हर कर्मचारी और अधिकारी कम से कम 50 किलो प्याज खरीदे।

कलेक्टर साहब का कहना है कि सरकार के आदेश के बाद खरगोन जिले में भी किसानों से जून महीने में 6 रुपए किलो की दर पर प्याज खरीदी गई थी। भंडारण केंद्रों में रखी गई प्याज खराब होने लगी। अब इसे बेचने के लिए आश्रम, जेल, अस्पताल, एमडीएम केंद्रों के साथ-साथ उपभोक्ताओं और सरकारी अधिकारियों-कर्मचारियों को भी प्याज खरीदने के लिए कहा गया है। ताकि प्याज खराब न हो सके और सरकारी राशि की भरपाई भी हो जाए।

मार्केटिंग फेडरेशन द्वारा खरगोन जिले में 18 हजार 443 क्विंटल प्याज खरीदे गए थे। करीब 1600 क्विंटल प्याज खराब होने के बाद उसको नष्ट कर दिया गया। जबकि शासन और कलेक्टर के आदेश के बाद अब तक करीब 550 क्विंटल प्याज विभिन्न स्तरों पर 4 रुपए किलो की दर पर बेचा जा चुका है। अभी भी जिला प्रशासन के पास करीब 16 हजार 293 क्विंटल विभिन्न भंडारण केंद्रों पर बची हुई है और इसी को बेचने के लिए जिला प्रशासन जद्दोजहद कर रहा है। अब कर्मचारियों के सामने मजबूरी है कि वो शहर से लगभग 3 किमी दूर एक वेयर हाउस पर जाकर प्याज खरीद रहे हैं।

अब कर्मचारी भले ही खुल कर फरमान का विरोध नहीं कर रहे लेकिन दबी जुबान में इसे तुगलकी बता रहे हैं। हालांकि कलेक्टर का कहना है कि कर्मचारियों को प्याज खरीदने के लिए कोई बाध्यता नहीं रखी गई है। वे स्वेच्छानुसार अपने घर के उपयोग के लिए प्याज खरीद सकते हैं।

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

Jan 19, 2018

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>