दुनिया का सबसे छोटा देश अब सिविल वॉर की कगार पर

Jul 11, 2016

जूबा। वर्ष 2011 में साउथ सूडान के साथ ही दुनिया में एक नया देश अस्तित्‍व में आया था। लेकिन पांच वर्षों की आजादी के बाद यहां पर हालात और बिगड़ गए हैं। अब दुनिया के इस सबसे छोटे देश में सिविल वॉर शुरू होने की संभावनाएं हैं।

सोमवार को साउथ सूडान के उपराष्ट्रपति रीक मचार के आर्मी स्‍पोक्‍सपर्सन कर्नल विलियम गत्जियाथ ने कहा है कि साउथ सूडान में फिर से युद्ध शुरू हो गया है।

साउथ सूडान में उपराष्ट्रपति मचार और राष्ट्रपति सलवा कीर के समर्थक सैनिक आपस में लड़ रहे हैं। उन्‍होंने बताया कि तीन दिन की लड़ाई में सैकड़ों सैनिकों की मौत हो चुकी है।

ये भी पढ़ें :-  पोप ने ढाका आतंकवादी हमले के पीड़ितों से की मुलाकात

उनकी टुकड़ियां राजधानी जूबा की तरफ बढ़ रही हैं। उन्होंने ने आरोप लगाया कि राष्ट्रपति सलवा कीर शांति समझौते को लेकर गंभीर नहीं हैं।

रीक मचार के सपोर्ट्स ने सरकारी समर्थन वाले सुरक्षा बलों ने राजधानी जूबा में उनके ठिकानों पर हमला किया है। वहीं यूनाइटेड नेशंस मिशन की ओर से कहा गया है कि उसके परिसर में सैकड़ों लोगों ने शरण ली हुई है।

शुक्रवार को लड़ाई में कम से कम 150 लोगों की मौत हो गई थी। लोकल रेडियो स्टेशन तामाज़ुज के मुताबिक रविवार को लड़ाई में मरने वालों की संख्या 271 तक पहुंच सकती है।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected