अफ्रीकी दिवस समारोह में उठाया अफ्रीकी राजदूत ने ‘नस्लवाद’ का मसला

May 27, 2016

राजधानी दिल्ली में कांगो के एक युवक की हत्या के चलते शुरूआती अनिच्छा के बाद आज अफ्रीकी राजदूतों ने यहां सरकार की मेजबानी वाले अफ्रीकी दिवस कार्यक्रम में हिस्सा लिया.

कार्यक्रम में उनमें से कुछ राजनयिकों ने अपने नागरिकों के खिलाफ हुए ”बर्बर हमलों” एवं ”नस्लवाद” पर बोलते हुए चिंता जतायी. कार्यक्रम के बाद विदेश राज्यमंत्री वी के सिंह ने कांगो नागरिक मसोन्दा केटाडा ओलिवर पर हुए हमले को नस्ली मानने से इंकार कर दिया और उम्मीद जतायी कि ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति नहीं होगी.

राजदूतों ने भारतीय संस्कृति संबंध परिषद (आईसीसीआर) द्वारा आयोजित कार्यक्रम में भाग नहीं लेने की शुरू में धमकी दी थी. उन्हें कल सिंह ने समझाया और भारत में अफ्रीकी नागरिकों की रक्षा के बारे में आश्वस्त किया.

इस बीच, कांगो की राजधानी किन्शासा में भारतीयों के प्रतिष्ठानों एवं दुकानों पर हमले किये गये. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कहा कि कांगो के विदेश मंत्रालय को एक अनौपचारिक राजनयिक संदेश भेजा गया है.

अफ्रीकी दिवस कार्यक्रम को संबोधित करते हुए नाइजीरिया के कार्यवाहक उच्चायुक्त सोला एनिकानोलाइये ने कहा, ”भारत में अश्वेत अफ्रीकियों के खिलाफ नस्लवाद एक प्रमुख चिंता का कारण है. अफ्रीकियों पर बर्बर हमलों, क्रोध में की गयी नृशंस हत्या जैसी घिनौनी घटनाओं से आक्रोश पैदा हुआ है.”

उन्होंने कहा, ”हाल में बेंगूलर, हैदराबाद एवं पिछले सप्ताह दिल्ली तथा गोवा सहित पिछले तीन सालों में हुई घटनाओं से गंभीर चिंता पैदा हुई है.” उन्होंने कहा कि यदि भारत में अफ्रीकी सुरक्षित महसूस नहीं करेंगे तो भाईचारा एवं मित्रता के विचार खोखले बने रहेंगे.

इससे पूर्व संवाददाताओं से बातचीत करते हुए विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कहा कि इस घटना से संबंधों पर प्रभाव पड़ा है. उन्होंने कहा, ”निश्चित तौर पर मैं इंकार नहीं करूंगा..यह तथ्य है कि अफ्रीकी मिशनों के प्रमुख द्वारा एक बयान जारी करने को मजबूर होना यह दिखाता है कि उन्हें काफी चिंता है.” साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि सरकार ने फौरन कदम उठाकर अपनी साख को साबित किया है.

उन्होंने कहा कि सरकार निरतंर स्थिति पर निगाह रखेगी और अफ्रीकी मिशनों के प्रमुख के साथ विदेश मंत्रालय के नेतृत्व के नियमित परिसंवाद का तंत्र कायम करेगी ताकि भविष्य में किसी भी मुद्दे को शुरू में ही सुलझा लिया जाए. पिछले हफ्ते एक आटोरिक्शा की सेवा लेने को लेकर हुए विवाद के बाद दक्षिणी दिल्ली के वसंत कुंज इलाके में ओलिवर की पीट पीटकर हत्या कर दी गयी थी.

इस हत्या से अप्रसन्न अफ्रीकी राजदूतों ने कल एक बयान जारी कर ”नस्लवाद एवं अफ्रीकी फोबिया” के खिलाफ ठोस कदम उठाने की मांग की. अफ्रीकी दिवस समारोह में करीब 30 अफ्रीकी देशों के राजदूतों एवं प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया.

स्वरूप ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण होगा कि कुछ छिटपुट घटनाओं को आमतौर पर अफ्रीकी छात्रों के लिए असुरक्षा के माहौल के रूप में पेश किया जाए.

उन्होंने कहा, ”आपराधिक कृत्यों को नस्ली रूप से प्रेरित बताना भी सही नहीं होगा. सीसीटीवी फुटेज से स्पष्ट है कि कुछ गुंडों द्वारा ओलिवर पर किये गये हमले में कुछ राहगीरों ने पीड़ित को बचाने का प्रयास किया किन्तु कुछ गुंडों ने उनकी भी पिटाई कर दी.”

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

 

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>