हादसों को भूलकर कबड्डी में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना चाहता हूं : रोहित

May 30, 2017
हादसों को भूलकर कबड्डी में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना चाहता हूं : रोहित

अपनी पत्नी के आत्महत्या मामले को लेकर विवादों में रहे कबड्डी खिलाड़ी रोहित कुमार को इस साल प्रो कबड्डी लीग सीजन-5 में बेंगलुरू बुल्स की टीम की जर्सी में देखा जाएगा।

रोहित का कहना है कि वह अपने जीवन के सभी बुरे हादसों को भूलकर बेंगलुरू द्वारा जताए गए विश्वास पर खरा उतरने की तैयारी कर रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि रोहित इस सीजन में सबसे महंगे बिकने वाले दूसरे खिलाड़ी हैं। उन्हें बेंगलुरू ने 81 लाख रुपये में खरीदकर टीम में शामिल किया।

कबड्डी लीग के पांचवें सीजन में सबसे महंग बिकने वाले खिलाड़ी नितिन तोमर रहे। उन्हें इस सीजन में नजर आने वाली नई टीम उत्तर प्रदेश ने 93 लाख रुपये में खरीदा।

हरियाणा के निजामपुर गांव में जन्मे 27 वर्षीय रोहित को पिछले साल उनकी पत्नी ललिता के आत्महत्या मामले में गिरफ्तार किया गया था। ललिता ने रोहित और अपने ससुराल वालों पर उत्पीड़न का आरोप लगाया था।

ये भी पढ़ें :-  ICC Womens World Cup, 2017: फाइनल के लिए आज आस्ट्रेलिया से भिड़ेगा भारत

रोहित ने आईएएनएस के साथ एक साक्षात्कार में कहा, “मैं आगामी सीजन पर ध्यान दे रहा हूं। मैं आगे बढ़ने और अपना सर्वश्रेष्ठ देने पर विश्वास रखता हूं। मैंने बहुत कड़ा प्रशिक्षण लिया है। मैं एक अच्छा रेडर हूं और अपनी टीम के लिए सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन देने में विश्वास रखता हूं।”

अपने जीवन में रोहित ने वह हासिल किया है, जिसका कोई कबड्डी खिलाड़ी सपना देख सकता है। प्रो-कबड्डी लीग के तीसरे सीजन में पटना पाइरेट्स के लिए खेलने वाले रोहित, अनूप कुमार के बाद अपने पदार्पण सीजन में सबसे मूल्यवान खिलाड़ी का पुरस्कार जीतने वाले पहले खिलाड़ी बने।

सीजन-5 की नीलामी में दूसरे सबसे महंगे खिलाड़ी होने के बारे में रोहित ने कहा कि वह इस खेल के विकास को देखकर खुश हैं।

ये भी पढ़ें :-  महिला हॉकी : वर्ल्ड हॉकी लीग में 8वें स्थान पर रही भारतीय टीम

प्रो-कबड्डी लीग की पहली नीलामी 2014 में हुई थी। इसमें सबसे महंगे बिकने वाले खिलाड़ी भारतीय कबड्डी टीम के पूर्व कप्तान राकेश कुमार थे। उन्हें 12.8 लाख रुपये में खरीदा गया था।

रोहित ने कहा, “इस खेल के विकास को देखकर खुशी हो रही है। इसलिए, नहीं कि इसमें इतना पैसा लग रहा है, बल्कि इसलिए भी कि इस खेल में मैंने इतने साल में जो भी कड़ी मेहनत की है उसके लिए मुझे पहचान मिली है और पुरस्कृत भी किया गया।”

उन्होंने कहा, “प्रो-कबड्डी लीग से पहले इस खेल की पहचान केवल ग्रामीण क्षेत्रों में ही थी, लेकिन अब इसके विश्व स्तरीय विकास को देखकर खुशी हो रही है।”

दक्षिण एशिया से जन्मे इस खेल कबड्डी में शारीरिक रूप से मेहनत अधिक लगती है। यह कुश्ती, रग्बी, टैग और चांटिंग जैसे खेलों का मिश्रण है।

ये भी पढ़ें :-  महिला क्रिकेट खिलाड़ी हरमनप्रीत को सम्मानित करेगी दिल्ली गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी

अपने प्रशिक्षण और डाइट के बारे में रोहित ने कहा, “कबड्डी का खेल वास्तव में काफी मांग में है। फिर चाहे आप के रेडर हों या डिफेंडर, आपको इस खेल में अपने शैली और तकनीक के साथ हमेशा प्रयासरत रहना होता है। अभ्यास के दौरान चोटों से बचे रहना भी जरूरी है। कबड्डी के खेल में शारीरिक बल अधिक लगता है और ऐसे में आपके चोटिल होने का खतरा अधिक होता है।”

रोहित ने कहा, “मैं प्रशिक्षण के दौरान इस बात का खास ख्याल रखता हूं कि मैं अपनी डाइट में प्रोटीन को शामिल रखूं और जंक फूड से अलग रहूं।”

युवा खिलाड़ियों को रोहित ने कड़ी मेहनत और जमीनी स्तर के कार्यक्रमों से जुड़े रहने की सलाह दी, ताकि वे अपने कौशल में सुधार कर सकें।

रोहित की टीम बेंगलुरू रेडबुल टशन से जुड़ी हुई है।

लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>