एक शासक को अपने धर्म से बढ़कर राजधर्म निभाना चाहिए, पर ये लोग कट्टरता अपना रहे है

Aug 03, 2017
एक शासक को अपने धर्म से बढ़कर राजधर्म निभाना चाहिए, पर ये लोग कट्टरता अपना रहे है
भारतीय संविधान की शपथ लेकर सत्ता में असिन हुक़ूमत ही संविधान का अपमान करने पर तुली हुयी है यह गंभीर विषय है संविधान ने सभी नागरिकों को एक सामान अधिकार दिए है उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार भेदभाव पूर्ण रुख अपना रही है।
एक शासक को अपने धर्म से बढ़कर राजधर्म निभाना चाहिए पर यंहा वह कट्टरता अपना रहे है एक समुदाय विशेष(मुसलमानो) के साथ , आतंक की भीड़ द्वारा बेगुनाह  मुस्लिमो की हत्या हो या बुरी तरह मारपीट हो अत्याचार चरम पर है केंद्र सरकार (मोदी सरकार) व् भारतीय मीडिया गूंगी व् बहरी बनी है बेहद शर्मनाक हालात , मुसलमानो पर हर स्तर चाहे सामाजिक हो या व्यापारिक हो अत्याचार हो रहा है।
मेरे एक बात समझ में नहीं आती क्या देश सिर्फ कट्टर हिन्दुओ का है मुसलमानो का नहीं ,कट्टर शब्द का मतलब आतंक ,यह नहीं दिखता यंहा की मीडिया व् सरकार को तो अंतरास्ट्रीय मीडिया व् अंतर्राष्ट्रीय बिरादरी को तो दिख रहा है देश के अंदर अराजकता फ़ैलाने वालो पर सरकार का नर्म रवैय्या स्पष्ट करता है उन को संरक्षण प्राप्त है  लोकतंत्र खतरे में है मोदी सरकार की जबाबदेही बनती है कि वह मुसलमानो पर अत्याचार क्यों नहीं रोक प रही।
जबकि न्यू यॉर्क टाइम्स ने भारत के सबसे बड़े राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को हिन्दू युवा वाहिनी का सरगना मानते हुए आतंकी तक कह दिया की मुसलमानो पर अत्याचार होने की वजह से , अंतर्राष्ट्रीय पटल पर देश की बदनामी भी सरकार और मीडिया को नहीं दिख रही।
चौधरी आदिल सगीर
(लेखक वरिष्ठ समाजसेवी हैं, ये उनके निजी विचार हैं)
ये भी पढ़ें :-  साध्वी का बड़ा खूलासा: बिना कपड़ों के गुफा में रहता था राम रहीम, लड़कियां करती थी मालिश
लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>