आईएस न कर दे फिर से रेप, इसलिए खुद को लगा ली आग

Aug 24, 2016
आईएस न कर दे फिर से रेप, इसलिए खुद को लगा ली आग

जर्मनी। का खौफ लोगों में कितना अधिक हो गया है इसका अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि एक लड़की ने आईएस के डर से खुद को आग लगा ली। कुछ समय पहले आईएस के चंगुल से छूटी 17 साल की यजीदी लड़की यास्मिन के दिल में आईएस का इतना खौफ है कि दोबारा उनकी गिरफ्त में जाने से बचने के लिए उसने खुद को आग के हवाले कर दिया।

यास्मिन ने ये कदम इसलिए उठाया ताकि आईएस वाले दोबारा उसका न कर सकें। उसने सोचा कि अगर वह खुद को जला लेगी तो बदसूरत दिखने लगेगी, जिसके चलते आईएस के लड़ाके उसका नहीं करेंगे। यास्मिन आईएस के खौफ का अकेला उदाहरण नहीं है। बहुत सी यजीदी लड़कियां, जिन्हें आईएस के चंगुल से बचाया गया है, उनके दिल में भी खौफ काफी अधिक है।

यह घटना इराक के एक रिफ्यूजी कैंप में हुई, जहां उसने शरण ले रखी थी। एक दिन उसे लगा कि कैंप के बाहर आईएस के लड़ाके आए हुए हैं। ये सोचते हुए उसे पुरानी बातें याद आने लगीं, जब आईएस के लड़ाकों ने उसके साथ रेप किया था। फिर उसने आईएस की गिरफ्त में कर रेप का शिकार होने से बचने के लिए खुद पर गैसोलीन छिड़क लिया और आग लगा ली।

यास्मिन उन 1100 यजीदी लड़कियों में से है, जिन्हें आईएस के चंगुल से छुड़ाया गया है। फिलहाल सभी लड़कियां जर्मनी में जर्मन डॉक्टर किजोहान की देख-रेख में मनोवैज्ञानिक इलाज करा रही हैं। किजोहान बताते हैं कि खुद को जलाए जाने के बाद जब यास्मिन उन्हें कैंप में मिली तब उसका चेहरा और बाल पूरी तरह से झुलस चुके थे। साथ ही वह अपनी नाक, होंठ और कान भी खो चुकी थी।

आपको बता दें कि 3 अगस्त 2014 को आईएस के लड़ाकों ने उत्तरी इराक के सिंजर इलाके पर कब्जा कर लिया था। इलाके के जवान लड़कों के लड़ाई के लिए इस्तेमाल किया, बुजुर्गों को इस्लाम कुबूल करने को कहा और जिसने ऐसा करने से मना किया उसे मार दिया। इसके अलावा यजीदी लड़कियों और महिलाओं को बेचा और अपनी दासी बना लिया। यास्मिन इन्हीं में से एक थी, जिसे बचाया गया।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>