68 दिन जबरन उपवास रखवाने पर लड़की की मौत पर माता-पिता के खिलाफ मुकदमा

Oct 10, 2016
68 दिन जबरन उपवास रखवाने पर लड़की की मौत पर माता-पिता के खिलाफ मुकदमा
कैसे-कैसे मां-बाप है। पूजा-पाठ के नाम पर बच्चों की जान भी दांव पर लगा देते हैं।  सिकंदराबाद में 68 दिनों के उपवास के बाद 13 वर्षीय लड़की की मौत के मामले में उसके माता-पिता के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। लक्ष्मीचंद समधरिया और उसकी पत्नी मनीषा के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 304 के तहत गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज किया गया है।
कक्षा आठ की छात्रा ने रखा था 68 दिन का व्रत
कक्षा आठ की छात्रा आराधना की मौत 68 दिन का उपवास पूरा करने के बाद तीन अक्टूबर को हो गई। सिकंदराबाद में रहने वाले उसके अभिभावक ने कहा कि उपवास पूरा करने के बाद जब वह बीमार महसूस कर रही थी, तब उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया।यह मामला तब प्रकाश में आया, जब बाल अधिकारों के लिए काम करने वाली एक गैर सरकारी संस्था (एनजीओ) बलाला हक्कुला संगम ने मामले की पुलिस में शिकायत की।
पीड़िता के पारिवारिक सूत्रों ने कहा कि आठवीं कक्षा में पढ़ने वाली आराधना ने दो अक्टूबर को अपना उपवास पूरा किया था, जिसके दो दिन बाद वह बीमार पड़ गई, जिसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया। चार अक्टूबर को उसकी मौत हो गई।
जैन परंपरा का होता है व्रत
जैन परंपरा के मुताबिक, लड़की चौमासा की पवित्र अवधि के दौरान उपवास पर थी। मान्यता के अनुसार इससे उसके पिता के ज्वेलरी के व्यापार में मुनाफा होता। लड़की के दाह संस्कार में सैकड़ों लोगों ने हिस्सा लिया और उसे ‘बाल तपस्वी’ करार दिया।बलाला हक्कुला संगम का कहना है कि लड़की से जबरदस्ती उपवास कराया गया, जिसके कारण उसकी मौत हुई। उधर परिवार वालों का कहना है कि लड़की इससे पहले  41 दिन का उपवास सफलतापूर्वक कर चुकी थी।
अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे
लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>