मैटरनिटी लीव बढने से कुपोषण में मिलेगी मदद

Aug 12, 2016

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने गुरुवार को कहा कि प्रसूता अवकाश में वृद्धि करने से कुपोषण से निपटने में मदद मिलेगी और जच्चा-बच्चा स्वस्थ होंगे.

श्रीमती गांधी ने राज्यसभा में प्रसूति सुविधा (संशोधन) विधयेक 2016 की चर्चा पर हस्तक्षेप करते हुए कहा कि इससे एकल परिवारों को लाभ होगा. आधुनिक समय में संयुक्त परिवार समाप्त हो रहे हैं और एकल परिवार बन रहे हैं. इससे परिवारों को विशेषकर बच्चों को परेशानियों का सामना कर पड रहा है.

उन्होंने कहा कि इससे कानून न केवल शिशुओं के स्वास्थ्य में सुधार होगा बल्कि माताओं को भी आराम मिलेगा.

उन्होंने कहा कि 26 सप्ताह का प्रसूता अवकाश मिलने से कुपोषण से निपटने में मदद मिलेगी. माताओं को स्तनपान कराने का ज्यादा समय मिलेगा. बच्चे के जन्म के बाद माताओं के लिए मुश्किल समय होता है. शारीरिक रुप से आराम की जरुरत होती है. इससे इसकी पूर्ति होगी.

श्रीमती गांधी ने कहा कि उनके मंत्रालय ने आठ माह के प्रसूता अवकाश प्रस्ताव किया गया लेकिन पक्षों के साथ विचार विमर्श के दौरान इस पर सहमति नहीं बनी.

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

 

 

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>