निजी क्षेत्र में महिला कर्मचारियों को 26 सप्ताह का मातृत्व अवकाश

Jul 02, 2016

निजी क्षेत्र सहित सभी प्रतिष्ठानों को एक नये विधेयक के तहत अपनी महिला कर्मचारियों को 26 सप्ताह का मातृत्व अवकाश उपलब्ध कराना होगा.

श्रम मंत्री बंडारू दत्तात्रेय ने यह जानकारी देते हुए कहा कि सरकार की इस विधेयक को आगामी सत्र में ही पेश करने की योजना है.

उल्लेखनीय है कि सरकारी कर्मचारियों के लिए 26 सप्ताह या छह महीने के मातृत्व अवकाश का प्रावधान पहले ही है. वहीं निजी क्षेत्र की कंपनियां अधिकतम तीन महीने के अवकाश की पेशकश करती हैं. वहीं बहुत से छोटे संस्थानों में ये लाभ भी नहीं दिए जाते हैं.

उन्होंने कहा कि नये मातृत्व लाभ विधेयक में मातृत्व अवकाश को मौजूदा 12 सप्ताह से बढाकर 26 सप्ताह करने का प्रस्ताव है और केंद्रीय मंत्रिमंडल इसे मंजूरी के लिए शीघ्र ही विचार करेगा. मंत्री ने कहा कि मंत्रालय इस विधेयक को संसद के मानसून सत्र में पारित करवाना चाहेगा.

ये भी पढ़ें :-  उप्र चुनाव : अब तक एक अरब 15.67 करोड़ रुपये जब्त

हालांकि श्रम मंत्री कामकाजी माताओं को घर से काम करने का विकल्प उपलब्ध कराने को अनिवार्य बनाने को एक तरह से खारिज करते नजर आए.

 

दत्तात्रेय ने संवाददाताओं से कहा, ‘कुछ प्रतिष्ठान हैं जहां उन्हें (घर से काम करने की) अनुमति मिल सकती है. लेकिन अन्य प्रष्ठिानों में उन्हें इस कानून में संशोधन के बाद (26 सप्ताह मातृत्व अवकाश) की सुविधा मिलेगी.’

मंत्री से पूछा गया कि श्रम बल में महिलाओं की भागीदारी बढाने के लिए घर से काम करने की अवधारणा को प्रोत्साहित करने के लिए उनका मंत्रालय क्या कदम उठा रहा है.

पिताओं के लिए पितृत्व लाभ व अन्य लाभों के बारे में मंत्री ने कहा, ‘यह विधेयक माताओं व बच्चों के बारे में है. यह पुरूषों (पिताओं) के लिए नहीं है.’

ये भी पढ़ें :-  गंगा को साफ न करा पाई तो अपनी जान दे दूंगी : उमा भारती

इसके साथ ही मंत्री ने कहा कि दुकानों, मॉलों व सिनेमा हाल सहित अन्य प्रतिष्ठानों को साल भर चौबीसों घंटे खुले रहने की अनुमति देने संबंधी माडल कानून से श्रम बल में महिलाओं की भागीदारी बढेगी.

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected