25 साल बाद शिया वक्फ बोर्ड को याद आई बाबरी मस्जिद, बताई अपनी संपत्ति

Jul 29, 2017
25 साल बाद शिया वक्फ बोर्ड को याद आई बाबरी मस्जिद, बताई अपनी संपत्ति

1992 में शहीद की गई बाबरी मस्जिद के मामले में एक नया मोड़ आ गया है। बाबरी मस्जिद की शहादत के 25 साल बाद अब शिया वक्फ बोर्ड मस्जिद पर अपना हक़ जता रहा है। दावा ये किया जा रहा है। कि इस मस्जिद पर उनका अधिकार है, और मस्जिद शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड की संपत्ति है।

बता दें कि बोर्ड इस मस्जिद पर अपना अधिकार जताते हुए कहता है कि मस्जिद का बनाने वाला बाबर का सेनापति मीर बकी एक शिया था। ऐसे में मीर बकी के जरिये बनवाई गई ये मस्जिद एक शिया मस्जिद थी। बोर्ड के डायरेक्टर वसीम रिजवी का कहना है। कि मस्जिद के सिर्फ इमाम ही सुन्नी थे। जिनको शिया मुतवल्ली मुआविज़ा देते थे, और वहां सुन्नी-शिया दोनों ही नमाज पढ़ते थे।

946 में बाबरी मस्जिद मामले में शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड की भूमिका संदिग्ध रही। लेकिन ऐसा लग रहा है। कि शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड, सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड से मुक़दमा हार गया, और वर्तमान में कोर्ट में चल रहे मुकदमों में शिया वक्फ बोर्ड की तरफ से अपना पक्ष नहीं रखा गया। इसीलिए बोर्ड ने फैसला किया है कि इस विवाद से जुड़े सभी मुकदमें में शिया वक्फ बोर्ड भी अपना दावा पेश करेगा।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक उन्होंने कहा है। कि इन वर्षों में किसी ने भी इस मामले की चंच के लिए हाईकोर्ट या किसी दूसरी अदालत में दरख़ास्त नहीं दी गई थी। लेकिन अब मेरे पास आर्डर की कॉपी है, और मुझे बोर्ड ने ये जिम्मेदारी भी दी है। कि मस्जिद के मिलकियत पर दावा किया जाए। हालांकि, इस मामले में हाई कोर्ट अपनी सफाई पेश कर चूका है। कि इस विवाद में अब किसी की भी दावेदारी कुबूल नहीं की जाएगी।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>