हरक सिंह रावत के ख़िलाफ़ रेप केस वापस

Aug 03, 2016

उत्तराखंड में भारतीय जनता पार्टी के नेता हरक सिंह रावत पर दिल्ली में दर्ज बलात्कार के केस को शिकायतकर्ता महिला ने वापस ले लिया है.

हरक सिंह के पीआरओ विजय सिंह चौहान ने बीबीसी को यह जानकारी दी.

बीते शुक्रवार की रात दिल्ली के सफ़दरजंग एंक्लेव थाने में एक 32 वर्षीय महिला ने हरक सिंह रावत पर बलात्कार करने का आरोप लगाते हुए शिकायत दर्ज करवाई थी.

राजनीतिक रूप से संवेदनशील इस मामले पर दिल्ली पुलिस के अधिकारी कुछ बोलने को तैयार नहीं थे.

शिकायतकर्ता का कहना था कि नौकरी दिलाने का झांसा देकर हरक सिंह रावत ने दिल्ली के ग्रीनपार्क स्थित अपने घर में उनका बलात्कार किया. शनिवार की सुबह से हरक सिंह रावत ग़ायब हो गए थे.

विजय सिंह चौहान के अनुसार शिकायतकर्ता जेनी नाम की महिला हैं जिन्होंने 2003 में भी हरक सिंह रावत पर यौन शोषण का आरोप लगाया था.

2003 में तत्कालीन नारायण दत्त तिवारी सरकार में मंत्री हरक सिंह रावत पर जेनी ने आरोप लगाया था कि वह उनके नवजात बच्चे के पिता हैं.

इस मामले के तूल पकड़ने के बाद मंत्री हरक सिंह रावत को इस्तीफ़ा देना पड़ा था, हालांकि बाद में सीबीआई जांच में उन्हें क्लीन चिट मिल गई.

इस बार भी हरक सिंह रावत पर आरोप लगते ही राज्य में राजनीतिक भूचाल आ गया था क्योंकि हरक सिंह रावत को मार्च में कांग्रेस में हुई बग़ावत का मुख्य कारक माना जाता है.

उत्तराखंड की हरीश रावत सरकार में मंत्री हरक सिंह उन नौ विधायकों में शामिल थे जिन्होंने वित्त विधेयक पर राज्य सरकार के ख़िलाफ़ मतदान किया था.

इसके बाद राज्य सरकार संकट में आ गई थी और राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू कर दिया गया था.

सुप्रीम कोर्ट के हस्तक्षेप के बाद हरीश रावत फिर मुख्यमंत्री बने और स्पीकर ने हरक सिंह रावत समेत नौ विधायकों की सदस्यता रद्द कर दी थी. यह मामला अभी अदालत में है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां करें. और पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>