अफगानिस्तान में 16 बस यात्रियों की हत्या की, दर्जनों को बनाया तालिबान ने बंदी

May 31, 2016

तालिबान ने मंगलवार उत्तरी अफगानिस्तान में कई बसों से यात्रियों को खींचकर बाहर निकाला और उनमें से कम से कम 16 यात्रियों की हत्या कर दी और दर्जनों अन्य को बंदी बना लिया.

तालिबान ने अशांत प्रांत कुंदुज के असलियाबाद जिले में हुई इस घटना पर अभी तक कोई टिप्पणी नहीं की है. इस प्रांत में विद्रोहियों ने पिछले साल एक स्तब्धकारी सैन्य विजय में इस प्रांत की राजधानी पर कब्जा कर लिया था.

कुंदुज प्रांत के गवर्नर के प्रवक्ता सईद महमूद दानिश ने कहा, ‘तालिबान ने 16 यात्रियों को मौत के घाट उतार दिया और उन्होंने 30 से अधिक लोगों को अब भी बंदी बना रखा है.

ये भी पढ़ें :-  पाकिस्तान में ब्लास्ट- 20 लोगों की मौत, 50 से ज़्यादा लोग घायल

हालांकि पुलिस कमांडर शीर अजीज कामावाल ने मरने वालों की संख्या 17 बताई. इन बसों में करीब 200 यात्री सवार थे.

उन्होंने कहा, ‘उन्होंने (तालिबान) ने कुछ यात्रियों को रिहा कर दिया है, लेकिन अब भी कइयों को बंदी बनाकर रखा है. इनमें से किसी भी यात्री ने सैनिक युनिफार्म नहीं पहना हुआ था, लेकिन इनमें से कुछ पूर्व पुलिस कर्मी हो सकते हैं.’

 

उपद्रवग्रस्त आलियाबाद के निवासियों ने एएफपी को बताया कि तालिबान एक स्थानीय मस्जिद में एक अनौपचारिक अदालत चला रहा है जिसमें इन यात्रियों के पहचान के दस्तावेजों की जांच की जा रही है और सरकार से किसी तरह का संबंध होने को लेकर उनसे पूछताछ की जा रही है.

ये भी पढ़ें :-  इस महिला सांसद ने की महिलाओं से की अपील कहा- पति जब तक वोटर आईडी न दिखाए मत करने देना सेक्स

तालिबान और अन्य सशस्त्र समूहों द्वारा यात्रियों का बार बार अपहरण किए जाने और उन्हें मौत के घाट उतारे जाने के साथ अफगानिस्तान में अशांत इलाकों से गुजरने वाले राजमार्ग अत्यधिक खतरनाक बन गए हैं.

उल्लेखनीय है कि अफगान तालिबान ने अमेरिकी ड्रोन हमले में मुल्ला मंसूर की मौत की आधिकारिक पुष्टि करने के बाद पिछले बुधवार को हैबतुल्ला अखुंदजादा को अपना नया नेता घोषित किया.

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected